Posted in Uncategorized

यात्रा…..वो भी अंतिम……!!!!

June 17, 2021

Shanky❤Salty

सही समझे
मृत्यु
हाँ मैं मृत्यु के बारे में ही लिख रहा हूँ
वो मृत्यु जो मुझे मार नहीं सकती है
पर हाँ आपको ज़रूर मार सकती है
ग़र आप स्वयं को जीवन समझते हैं तो
मृत्यु उसे ही स्वीकारता है
जो जन्म को स्वीकारता है

ना तो मेरा जन्म हुआ है
ना ही मेरी मृत्यु हो सकती है
ये शरीर का जन्म होता है
तो मृत्यु भी उसी की हो सकती है
हमारी नहीं, कभी नहीं

स्वयं नाथ जी भी हमें नहीं मार सकते हैं
यक़ीनन वो सर्वसमर्थ हैं
पर हमें मारने में कभी भी नहीं
अपनी उर्जा को पहचानों
वो कहते हैं ना अज्ञानता का जीवन किसी मृत्यु से कम नहीं है

महेंदी के पत्ते में ही उसकी लाली छिपी होती है
एक बीज में ही जन्म और मृत्यु छिपा है
मृत्यु एक वस्त्र बदलने की प्रक्रिया है
बस और कुछ नहीं

अर्थ स्पष्ट है मेरे शीर्षक का
इस जीवन की यात्रा
अंतिम होनी चाहिए
कोई कितना भी बुलाए
लौट के नहीं आना है
यह जीवन अनमोल है
व्यर्थ ना गवाओ

मोक्ष की उस स्थिति को जान लो
मर्जी तुम्हारी है
सुख-दुख कि चक्की में पिसना है
या उस चक्की के कील से लग कर
और अपनी यात्रा को अंतिम करना है

अब अलविदा कहता हूँ
कुछ पल के लिए
जो इस आत्मज्ञान से निकला वो तो डूब गया
और जो इस आत्मज्ञान में डूबा वो तो हो गया पार…!!


Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

मजबूत रिश्ते…….!!!!

May 14, 2021

Shanky❤Salty

ये रिश्ता बड़ा मजबूत है
बेश़क हमने ही चुना है
जमाने ने जड़ें जरूर काट दी हैं
पर मजबूती से दोस्तों ने थामा ही है

कुछ नए मिलें हैं
तो कुछ पुराने बाकी हैं
शब्दों का मेल है
दोस्त मेरे सच में अनमोल हैं

बारिश का मौसम आ चुका है
तुम भीगना ज्यादा मत इसमें
पर गलतफहमियों की धुल ग़र जमीं हो
तो उसे धो जरूर देना मेरे यार

वो कहतें है ना
यादें बहुत आती है
पर वो वक्त नहीं आ पता है
यकीनन हम झगड़ते बहुत थे
पर दुआओं में भी हम ही थे

वक्त की धुंध में बहुत कुछ छुप जाता है
पर आँखों से ओझल नहीं हो पता है
नासमझ जरूर हूँ
पर समझाना सिर्फ तुम्हीं को आता है

सुख हो या दुख हो
कुछ ने सीढ़ीयों सा इस्तेमाल किया
पर कुछ अभी भी दोस्ती का फ़र्ज़ निभा रहें
हर परेशानीयों का उपाए है उनके पास

दोस्त हैं तो ज़िन्दगी मकबुल है
ना जिस्म की बात होती है
ना ही रूह की होती है
बस ज़िन्दगी को खुल कर जीने की इबादत होती है

ना खुदा ने बनाया है
ना खुद हमने बनाया है
दरसल ये रिश्ता खुद-ब-खुद बन आया है

भावनाओं का जो मेल हो पाया है
निस्वार्थ ही ये रिश्ते निभ रहे हैं
और निभते रहेगें

चाहत कुछ भी नहीं है
बस जहाँ भी रहें
अपनी मौज में रहें

यही दुआ है उनकी
चार धाम की यात्रा
साथ कर पाय या ना कर पाए
पर हमारी अंतिम यात्रा में
वो शामिल हो जाएं
ये ही आखिर ख्वाहिश है हमारी

Posted in Uncategorized

ओ राम…….!!!!!

April 18, 2021

Shanky❤Salty

मुस्कुराने की कला सिखाते है राम
ग़म का ज़हर पीना सिखाते है राम
भूत और भविष्य कि गोद त्यागना सिखाते है राम
वर्तमान में बैठना सिखाते हैं राम
काया-माया छोड़ना सिखाते हैं राम

राम होकर राम में जीना सिखाते हैं राम
स्वाद ज़िन्दगी का चखना सिखाते हैं राम

सुनो ना राम
लिखूँ मैं कैसे तुझपे राम
समझते क्यूँ नहीं हो तुम राम
कैसे लिख दूँ मैं तुझपे राम

तुझ तक मेरी बुद्धि नहीं पहुँच पाएगी राम
वहां तक शब्द मैं कैसे पहुँचाऊ राम
तुम तो अबाधित हो मेरे राम
शब्दों से कैसे बाँधू मैं तुझको राम

ध्यान में लीन हैं मेरे राम
भूखा नहीं है प्यासा नहीं है मेरा राम
तृप्त है मेरा राम
क्या अर्पण करूँ मैं तुझको राम

कोई धाम नहीं है बिना तेरे मेरे राम
हर एक के अंतःकरण में बसता है मेरा राम
सौगंध तेरी खाता हूँ मैं राम
भर भर प्याला पीता हूँ नाम तेरा मेरे मैं राम

सच कहता हूँ ज़िन्दगी सुधरता है मेरा ओ प्यारे राम
पता नहीं ओ मेरे प्यारे राम
क्यों आँखों से पानी छलकता है राम
जब जब जिक़्र होता तेरा है राम
पावन सा तेरा है नाम राम

Posted in Uncategorized

कुछ तो बात है……!!!!

April 15, 2021
Shanky❤Salty

कुछ तो बात है
श्मशानों में इतनी भीड़ क्यों है?
जंगल की लकड़ियाँ क्यों कम पड़ रहीं हैं?

कुछ तो बात है
प्रकृति का ऐसा ही वास्तविक रूप है?
या फिर यह हमारे कर्मों का फलस्वरूप है?

कुछ तो बात है
कहीं पर चुनाव जीतने की होड़ है
तो कहीं पर ज़िंदगी हार रही है

कुछ तो बात है
एक वक्त था जब मन में फासलें थे
अब तो हकीकत में भी फासलें हो गयें हैं

कुछ तो बात है
धन हमनें लाखों – करोड़ों में कमाया
पर हमनें मन से छल – क्रोध को छोड़ नहीं पाया

कुछ तो बात है
खाने को दो रोटी नहीं है
पर अल्लाह के लिए बकरी तैयार रखें हैं

कुछ तो बात है
कुंभ के गंगा में भीड़ तो है
पर ज्ञान की गंगा खाली ही है

कुछ तो बात है
कितनी भयावह परिस्थिति है
कि चार जन भी नहीं मिल रहें
अपने को कंधा देने की खातिर

कुछ तो बात है
जंगल की लकड़ियाँ कम पड़ रहीं हैं
यह रौद्र रूप नहीं है प्रकृति का
है यह केवल चेतावनी
पिछले वर्ष कोरोना करूणा में थी
अबको-रोना ही है
वक्त है संभल जाओ
वरना इससे भी भयावह स्थिति
उतपन्न हो सकती है
खै़र
कुछ तो बात है…….!!!!!!

Posted in Uncategorized

Review by Nidhi Gupta……!!!!

April 09, 2021
Shanky❤Salty

इस किताब में हमारे आराध्य रामजी के विषय में विस्तृत रूप से बताया गया है, यह एक कवि और उसके आराध्य के बीच का वार्तालाप है, इसमें कवि का कोमल ह्रदय छलकता है, वह अपने राम जी को हर जगह हर वक़्त पाता है, उसे अपनी मृत्यु की भी चिंता नहीं है क्योंकि वह राम राम करते हुए ही मरना चाहता है, कवि का विश्वास है की राम राम करने से चौरासी योनि का जो चक्र है वह टूट जायेगा और उसे मोक्ष प्राप्त हो जायेगा, कवि ने अपने इस किताब में अपने आराध्य रामजी और खुद को दोस्ताने रिश्ते को भी बतलाया है और एक दास के रिश्ते को भी बताया है। इस किताब को पढ़ने के बाद हमे राम जी के संम्पूर्ण जीवन का ज्ञान हो जाता है, कवि राम मंदिर के कारण हुए राजनीति और दंगा फसाद के कारण बहुत दुखी है, वह राम मंदिर के नाम पर राजनीति करने वाले से बहुत नाराज है। कवि अपने मन की हर एक बात जो वह अपने राम जी से कहना चाहता है उसने अपने इस किताब में खुल कर लिखा है, आप इसे एक संवाद के रूप में जब पढेगें तब आपको यह समझ में आ जायेगा की कवि कितना मासूम है, वह अपनी हर एक बात अपने आराध्य रामजी से कैसे कहता है। कुछ पंक्तियाँ कवि ने कुछ इस तरह से लिखीं हैं जो बहुत ही गहरी हैं। आप सभी को यह किताब अवश्य पढ़ना चाहिए ताकि आपको रामजी के विषय में और भी जानकारी हो।

Book review by Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

Book Review……!!!!!

April 04, 2021
Shanky❤Salty
Harina Pandya has given review of my book “सच या साजिश
👇
I will recommend this book to know about our culture and civilisation..it is not just about one or two concepts..it covers each and every aspect about our saints, religion, society in today’s era, history, lifestyle and much more..book provides detail information about our sanskriti amazingly.
To read my book click here
Posted in Uncategorized

होली…….!!!!!

March 28, 2021
Shanky❤Salty
होली हुई या हो गई है
या होनी बाकी है अभी
या हो रही है
ज़रा बतलाओ मुझको,
लकड़ियों के ढ़ेर को जलाया
या होलिका को जलाया
ज़रा बतलाओ मुझको,
पापिन, अविद्या को जलाया
या राघ, द्वेष को जलाया
ज़रा बतलाओ मुझको,
सीमित रह कर होली मनाया
या उस असीमित को पार कर होली मनाया
ज़रा बतलाओ मुझको,
जहाँ आशा जली नहीं
तृष्णा मिटी नहीं
ईष्या की आग मन में लगी
कैसे मनाई फिर होली
ज़रा बतलाओ मुझको,
वक्त बीता और मुख में अग्नि पड़ी
यार कैसे मनी होली
वो रंग ही क्या जो चढ़ कर उतर जाए
लाल से रंगा
पीले से भी रंगा
और हरे से भी रंग लिया
पर वह तो पानी से धुल गया
फिर कैसे मनी होली
ज़रा बतलाओ मुझको,
सुनो ना राम
अरे हाँ श्याम
तुम मुझे अपने ही रंग में रंग दो ना
ज्ञान के रंगों से
माधुर्य के रंगों से
वात्सल्य के रंगों से
चढ़ा दो मुझ पर श्याम ऐसा रंग
जो कभी ना उतरे
अज्ञान मिटा ज्ञान का रंग लगा दो ना
मोहन मुझे अपने ही रंग में रंग दो ना
ये रंग और कहीं नहीं मिलेगा,
जैसे मेहंदी के हरे पत्ते में ही लाली छुपी है
वैसे ही हमारे भीतर ही सब कुछ है
बस यह होली खुद से खेलों
फिर तो हर क्षण होली है

Written by:- Ashish Kumar
My words are incomplete without support of Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

कौन हैं राम…….!!!!

March 26, 2021
Shanky❤Salty
मैंने एक किताब लिखी है जिसे आप देख महसूस करेंगे की यह किसी विशेष धर्म, संप्रदाय, जाति, मज़हब के लिए है लेकिन ये सत्य नहीं है, यह किताब पूरी मानव जाति के लिए है। इस किताब में राम शब्द का प्रयोग एक उर्जा के तौर पर किया गया है जो हर ज़गह विद्यमान हैं। वह उर्जा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अल्लाह में भी है और शिवजी में भी है,
जिसे आजकल की साईंस ने भी माना है
“गौड पार्टीकल” के रूप में।
मेरा किताब लिखने का एक ही मकसद है की जाति, मजहब, धर्म, रंग, भेद,…आदि को ख़त्म कर उस एक पर ध्यान देना।
दिखते तो यहाँ पर सब अलग अलग हैं पर हैं तो सब एक ही ना।
फ़िर यह ईर्ष्या राघ द्वेष क्यों और किससे..!!!
राजा हो या रंक असली औकात तो श्मशान में दिख ही जाती है
फ़िर जीते जी यह बाहरी दिखावा क्यों।
कुछ वास्तविकता को मैंने लिखा है जिसे लोग जान कर भी अनजान बनें हैं।
जिस्म और रूह की सत्यता को मैंने स्पष्ट रूप से लिखा है।
राम होकर राम को भजना है।
इस किताब का उद्देश्य अपने भीतर छुपी आत्मचेतना को जगाना है।
किसी भी चीज़ का नशा एक-न-एक दिन उतरना ही उतरना है।
रात को पियो तो सुबह
सुबह को पियो तो रात
उतर ही जाता है।
राम नाम का प्याला पी कर के तो देखो।
राम नाम का नशा कर के तो देखो वचन है मेरा आपको इससे सारी ज़िन्दगी सुधर जाती है
राम जी ही तो सरस्वती जी के रूप में मेरी जिह्वा पर विराजमान हैं
और मेरी कलम को एक नई सोच देते हैं।
मैं उन्ही राम जी के अंश राधा अग्रवाल जी और निधि गुप्ता “जिद्दी” जी का आभार व्यक्त करना चाहता हूँ जिन्होंने मेरे लिखे इस लेख को जो राम जी को समर्पित है
को सही किया है इसे सुंदर बनाया है।
हरिणा पंडया जी और निधि गुप्ता “जिद्दी” ने इस किताब को लिखने में मुझे सहयोग दिया है।
राधा अग्रवाल जी ने मेरी इस किताब का शुद्धिकरण किया है।
सचिन गुरुरानी ने मेरी किताब के लिये डिजाइन तैयार किया है।
मैं इन सभी को तहेदिल से धन्यवाद करता हूँ।

मेरी किताब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें
Posted in Uncategorized

वो खड़ी थी…….!!!!

March 19, 2021
Shanky❤Salty
मृत्यु दरवाजे पर आ खड़ी थी राम
पूछा उसने मुझसे राम
क्या किया तुने जीवन में राम
हैरान परेशान हो गया मैं राम
सोने में रात बिता दी थी मैंने राम
खाने में दिन भी गुजार दिया था राम
तेरे नाम का हिसाब दे नहीं पाया मैं राम
फ़िर क्या राम
खोल मुट्ठी मेरी उसने दी राम
चौरासी के चक्कर में उसने धकेल मुझको दिया राम
जीवन मेरा मैंने यूँ हीं गवां दिया राम
सोने का कटोरा रख कर मैंने राम
भीख ही माँगी राम
घाट श्मशान का हो राम
या मणिकर्णिका घाट हो राम
हिसाब तो होगा ही राम
चिड़िया भले ही चुग खेत क्यों ना गई राम
नुकसान तो मेरा ही होगा राम
निंदा करता रहा मैं राम
मुझसे बड़ा निंदक मिला नहीं मुझको राम…!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

Truth Or Conspiracy……!!!!

February 24, 2021
Shanky ❤Salty

My fifth book has been published on February 16, 2021. I have written some of my experiences in this book. And some such untold story by our Indian media or paid media or fabricated media. This book is written for the mature reader. Its purpose is not to hurt anyone’s feelings. Neither is it in favor or opposition to any person, society, gender, creed, nation or religion. These are my own views.

In this book you read about:-

  • Some Cultures Of The World
  • Culture Of India
  • Indian Saint

  • What Is The Purpose Of The Saint?
  • Gautam Buddha
  • False Accusations On Gautam Buddha
  • Jayendra Saraswati Shankaracharya
  • False Accusations On Jayendra Saraswati Shankaracharya
  • Asaram Bapu
  • Parliament Of World Religion
  • Scientific Conclusion Of Asaram Bapu Aura
  • Women Empowerment
  • Divine Baby Rites
  • Stop Abortion Campaign
  • Cesarean Delivery
  • Spiritual Awakening Campaign
  • Prisoner Uplift Program
  • Vrinda Expedition
  • Tribal Welfare
  • Gurukul
  • Valentine’s Day
  • Protection Of Cows From Slaughterhouses
  • The Main Reason Why Asaram Was Targeted
  • False Accusations On Revered Bapuji
  • What Are People Saying
  • Attack On Hinduism

I offer my gratitude to God. Those who inspired my writing. I thank you to my mother Pramila Sharan. Without her blessings, the existence of this book was difficult. I’m grateful to the writers, readers & critic bloggers who helped to make my writing the best. I would also like to thank you to Radha Agarwal, who helped me and did a proof reader. I thank to Rekha Rani ma’am for helping me in this book. Who raised the respect of my creation with their thoughts. Also, my heartfelt thanks to those who helped to write this book.
Hope that by reading this book, you will try to understand and appreciate my point of view. And give your feedback.
My book is available on Amazon & Notionpress

Posted in Uncategorized

सिखा दो न…..!!!!

February 21, 2021
Shanky❤Salty
ग़म के आँसू भी तो हला-हल कि तरह है ना शिव जी
आप हमें भी पीना सिखा दो न शिव जी
हर परिस्थिति में हमें भी मुस्कुराना सिखा दो न शिव जी…

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

अयोध्या वासियों से अनुरोध…….!!!!

February 10, 2021
Shanky ❤Salty
बड़ा व्याकुल है मन हमारा
कभी सम्मान ना मिला
हमारी माँ सीता जो को
आपकी अयोध्या जी में
ब्याह कर के आईं थीं हमारे राम जी से
षड्यंत्रों का शिकार हो वनवास को गई हमारी माँ
अग्नि परीक्षा तक देना पड़ा हमारी माँ को
फ़िर भी चैन ना मिला आपके अयोध्या वासियों को
क्या से क्या कह गए हमारे राम जी को
त्याग सीता को प्रजा का सम्मान रखा राजा रामचंद्र जी ने
है विनती मेरी आपके मोदी जी से
बनवावें रामलला का भव्य मंदिर
पर वो सम्मान लौटावे जो प्रेम किया था हमारे राम जी ने हमारी माँ सीता जी से…

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

मेला है या खेला है……!!!!

January 18, 2020
Shanky❤Salty
सबको नंगा आना है
पावन गंगा के तट पर ही जाना है
वो चले गए हैं
मुझे जाना बाकी है
कुछ को अभी आना बाकी है
सच कहूँ तो
दो दिन का मेला है
ज़िंदगी का यही खेला है
बाँध मुठ्ठी आना है
कमा-कमा कर झोली भरना है
खोल मुठ्ठी तो सबको जाना है
जो कुछ भी खोया या पाया है
सब कुछ ही तो कर्मों का खेला है
सबको तू अपना मान बैठा है
पर चिता पर लेटना अकेला है
यारा कहा था ना
दो दिन का मेला है
ज़िंदगी का यही खेला है…

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

हाथों में पतंग लेकर…….!!!!

January 14, 2021
Shanky❤Salty
खुशियाँ किसी चीज या वस्तु की मोहताज़ नहीं होती
खुशियों को तो बस बहाना चाहिए
हाथों में पतंग लेकर
आसमान को छूना है
हर ख़्वाब को एक दिन पूरा करना है
ज़िन्दगी कि डोर में प्यार का माँझा हम चढ़ाएँगे
ईर्ष्या की पतंग को काट हम गिराएगें
तिल गुड़ खा कर हर रिश्ते से कड़वाहट हम मिटाएंगे…

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

ख़ुद ही खुदा…….!!!!

December 02, 2020
Shanky❤Salty
ख़ुदा का काम करते फिरते हो
लगता है इसलिए
दूसरों के कर्मों का
तुम हिसाब लिखते फिरते हो
जरा मेहरबान होकर के
ख़ुद के कर्मों का
भी ग़र तुम हिसाब कर लेते
तो तुम ख़ुद ही खुदा के रूप में पूजे जाते…!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Published by Anonymous
Posted in Uncategorized

अर्थहीन सी दुनिया…..!!!!

November 26, 2020
Shanky❤Salty
अर्थहीन दुनिया लगती है
ज़िन्दगी भी अब मुझको व्यर्थ सी लगती है
ख़ुद का अस्तित्व ढूंढनें में मुझको असमर्थता सी महसूस होती है
मेरी हर कोशिश ना जाने क्यों व्यर्थ सी होती है
हर पल लोग खफ़ा हो जाते हैं
हर ज़गह हम असफल हो जाते हैं
आँखे बंद करते हीं आँखों से आँसू बह जाते हैं
एक-दूजे से इंसान जलता ही जाता है
मुट्ठी में रेत की तरह समय बीतता जाता है
व्यर्थ की चिंता कर मनुष्य एक दिन अर्थी पर लेट ही जाता है

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

मेरी एक और किताब….!!!!

WhatsApp Image 2020-09-25 at 1.27.31 PM

September 25, 2020
Shanky❤Salty
एक खुश-खबरी….!!!!
सबसे पहले मै महादेव को नमन करते हुए कृतज्ञता ज्ञापन करता हूँ। जिन्हों ने मुझें लेखन की प्ररणा दी। मैं अपनी माँ श्रीमती प्रमीला शरण को आभार देता हूँ। उनके आशीर्वाद के बिना इस पुस्तक का अस्तित्व कठिन था। मैं कृतज्ञ हूँ उन लेखक-पाठकों और आलोचक ब्लॉगरों का, जिन्होंने मेरे लेखन को श्रेष्ठ बनाने मे मदद की। मैं राधा अग्रवाल जी को भी धन्यवाद देना चाहूंगा। जिन्होंने मेरी मदद की और इसका प्रूफ रीडिंग किया। मेरी पुस्तक में मदद करने के लिये मैं रेखा रानी मैम को आभार व्यक्त करता हूँ। जिन्होंने अपने विचारों से मेरी रचना का सम्मान बढ़ाया। इसके अलावा, जिन लोगों ने भी इस पुस्तक को लिखने में मदद मिलीं, उन्हें दिल से धन्यवाद।
मेरी चौथी किताब “सच या साजिश” आज प्रकाशित हो गईं है। इस पुस्तक में भारतीय संस्कृति, भारत कि जड़ें, भारतीय संतों के बारें में, भारतीय संस्कृति पे षड्यंत्र, संतों पर प्रहार के बारे में पढ़ेंगें। इस किताब का उद्देश्य सामाजिक यथार्थ को चित्रित करना, शांति, अहिंसा, सहिष्णुता, दोस्ती, एकता, समृद्धि, खुशी और अखंडता को बढ़ावा देना है। पाठकों को बतलाना है कि भारतीय संस्कृति पर कितनी बड़ी साजिश है और सनातन संस्कृति की वास्तविकता से अवगत कराना है। मैं बहुत ही जल्द अंग्रेजी अनुवाद प्रकाशित करूंगा। आशा है, आपको मेरी पुस्तक पसंद आएगी।
किताब पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें
Posted in Uncategorized

क्या है तु…..!!!!

July 16, 2020
Shanky❤Salty
ओए दोस्त सुन न,
प्यार, इश्क, मोहब्बत की तो बात होती है
पर जहां तु होता है न
वहां तो इन सब की बरसात होती है
मेरी खामोशी को तुम हर सुन ही लेते हो
चुप रहकर भी बहुत कुछ बोल देते हो
जब खुद को मैं अकेला छोड़ देता हूँ
तब तुम ही तो पीछे से आकर हाथ थाम लेते हो
वो चोंगे कि तरह तुम्हारा चिल्लाना
मेरा पैर पकड़ बिस्तर से गिरा देना
बाईक पर पीछे बैठा मुझे हर जगह ले जाना
परीक्षा के दिनों में बिना पढ़ें ही पास हो जाना
और अब इन सब बातों को याद कर
आँखों से आँसुओं का छलक जाना
मुझको तो पता नहीं क्या है ये
दोस्ती कहते है कुछ लोग इसे
तो कुछ लोग भाई कहते है इसे
पर हकीकत में मुझे अभी तक पता नहीं
जो भी है इन सबसे अलग
है जी कुछ खास है
मेरे ही दिल के पास है
जो अनसुलछी सी है मेरी ज़िंदगी
उसे तु पल भर में सुलझाए
हर किसी से मैंने रिश्ता बनाया है
वक्त-बे-वक्त मैंने उसमें दाग पाया है
एक तु ही है जिससे मैंनें न तो कोई रिश्ता बनाया है
न ही अभी तक क़तरा सा भी दाग पाया है
हर कोई जमाने की बात करता है
पीठ पीछे फसाने की बात करता है
तु तो ज़िंदगी कि बात करता है
हर पल निभा कर ही बात करता है
मैं चल न सका तो तु
मेरे एक बुलावे पे तु दौड़ा चला आया
गोद में ले सीढ़ियाँ चढ़ मुझे कमरे तक पहुँचाया
अब यह सुन तुम ये मत कहना कि
क्या भाई तु भी न
बता तु ही मुझको
क्या मैं भुल जाऊँ इन सब पल को
या दे दूं तुम्हें तुम्हारे जन्मदिन की हार्दिक बधाई

ह्रदय ये प्रणाम है उस माँ को जिसने तुझको जन्म है दिया।
है प्रणाम उस पिता को जिसने पालन है तेरा किया।
है धन्यवाद उसे नाथ को
अरे हाँ जी भोलेनाथ को
जिसनें मेरी ज़िंदगी में तुझको दिया

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

ज़िंदगी के रंग…..!!!!!

July 10, 2020

Shanky❤Salty

कभी ज़ेहन में ख्याल आता था लिखना बहुत आसान है। बस चाहिये काग़ज़, क़लम, एक दिल, दिमाग़ और कुछ लफ़्ज़, बस लिखने का सिलसिला चल निकलता है। लेकिन जब लेखनी हाथों में लिया, तब समझ आया लफ़्ज़ों, नज़्मों, कविताओं के खेल निराले होते हैं। तूलिका पकड़, कल्पना के सहारे ज़िंदगी के सच्चे रंग नहीं उकेरे जा सकते। ऐसे रंग कभी बहुत गहरे, कभी हल्के और कभी बदरंग हो जातें हैं।
लिखने के लिये चाहिये जिंदगी के सच्चे सबक, सच्ची सीख, चोटें, अनुभव और उनसे निचोड़े लफ्ज़। इनसे बनती हैं सच्ची कविताएँ और नज़्म। सच है, दिल से निकली बातें हीं दिल तक जाती हैं। बहते पानी सी अनवरत चलती ज़िदगीं ने बहुत रंग दिखाये। जीवन में उतार-चढ़ाव और ठहराव दिखाये। ख़ुद आईना बनने की कोशिश में इन सब को शब्दों और लफ़्जों का जामा….लिबास पहना कविता का रुप दे दिया। ज़िंदगी को इन कविताओं में ढालने की यह कोशिश कैसी लगी? क्या ये कवितायें आपके दिल को छूती हैं? पढ़ कर देखिये न रेखा आंटी की किताब को।

Title: Zindagi Ke Rang
Product ID: 197911-1336776-NA-NED-T0-NIKI-REG-IND-DIY
ISBN: 9781649511652
Format: Paperback
Date of Publication: 06-07-2020
Year: 2020

Click here to read this book.

Posted in Uncategorized

मेरे ह्रदयेश्वर…..!!!!

July 8, 2020
Shanky❤Salty
सुनो ना नाथ जी
कहते हैं मुझको ये लोग
लिखुं मैं तुझपे
समझते क्युं नहीं है मुझको ये लोग
कैसे लिख दूं मैं उनपे
जिन तक बुद्धि नहीं पहुँच सकती
वहां तक मैं शब्द कैसे पहुँचाऊं
जो अबाधित है हर चीज से
उन्हें मैं शब्दों से कैसे बाँध सकता हूँ
जो ध्यान में लीन हैं
उन्हें मैं कैसे ज्ञान में ला सकता हूँ
जिन्हें न भूख है न प्यास है
उन्हें मैं कैसे कुछ भी अर्पण कर सकता हूँ
जिनका न कोई नाम है न कोई धाम है
उन्हें मैं कैसे जान सकता हूँ
देखा है मैंने
भाँग पीने से
नशा चढ़ता है
ठीक उसी प्रकार
तेरा नाम मेरे अंतः में बसता है
पर तेरी सौगंध खा कहता हूँ मैं
भोले बाबा के नाम से ही सारी ज़िंदगी सुधरता है
पता नहीं मेरे ह्रदयेश्वर
तुने मुझको क्या पिलाया है
तेरे नाम के जिक्र से ही
मेरी आँखों से पानी छलकता है
है पावन ये सावन मेरे प्रभु
कहते है लोग मुझको ना जाने क्यों
सुनों जाओ बाबा के मंदिर तुम
पर कैसे बतलाऊं मैं उनको यह
कि तुम मन कि चौखट पर आ बैठते हो
होती है तकलीफ जमाने को
चढता है जब तुझपे दूध तो
कर मन मंदिर में अभिषेक तुम्हारा
हम धारा अश्रुओं से
हो जाते हैं पल-दो-पल के लिए मौन,
ओ मेरे देवा
सुनो ना,
हाँ हाँ महादेवा
अब खुश हो न
जरा बतलाओ ना उनको
ना तो जन्म उसका ना ही मरण है उसका
फिर यह आशीष शरणागत है उसका

A topic suggested by
Priyanshi Dubey, Golden Moon
And a few more.
Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- Dr. Sakshi Pal
Posted in Uncategorized

तुम खुद को मर्द कहते हो….!!!!

June 30, 2020
Shanky❤Salty
सुना है
तुम खुद को मर्द कहते हो?
औरतों के जिस्म का धंधा भी करते हो
छोटे कपड़े न पहनने की नसीहत देते हो
और बुरखे वाली को भी नजरों से नंगा कर देते हो
खुद को खुद्दार कहते हो
फिर दहेज माँग खुद नामर्द क्यों बना देते हो
है जन्मते वे औरत के जिस्म से
फिर होकर बड़े वे फेरते हैं हाथ औरत के जिस्मो पे
और खुद को मर्द कहतें हैं वो…..!!!!
वो बाँझ कहतें हैं औरत को
न होते बच्चे उनके तो
करतें हैं ब्याह एक के बाद एक वो
फिर भी न हुआ बच्चा जो
तो क्यों न कहतें हैं खुद को नामर्द वो?
जब जब उनकी नजरें उठती है
तब तब सामने वाली स्त्री की नजरें झूकती हैं
और वो खुद को मर्द कहते हैं
किया था इन्हीं वक्षस्थल से कभी दुग्धपान
आज घुरते हैं उसके स्तनों को
तुम क्या यह बतलाना चाहते हो
कुत्तों की तरह माँस का टुकड़ा चाहते हो
दो पैरों के बीच को ताड़ कर
वासना की भूख मिटाना चाहते हो
और खुद को मर्द कहते है….!!!!
एक औरत ने तुझको अपनी योनी से जन्म दे, वक्षस्थल से दुध पिला मर्द है बनाया।
आज तूने उसी योनी-वक्ष को देख अपनी काम वासना जागृत कर खुद को सबकी नजरों में ना-मर्द है बनाया।

Published by Anonymous on behalf of Shanky_Salty
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

समझा दो न मुझको…..!!!!

June 4, 2020
Shanky❤Salty
हमें गिरना तो पसंद नहीं है
पर दूसरों को गिरा कर
खुद उठने में मजा बहुत आता है
पर एक बात समझ नहीं आती मुझे कि
फिर हमें गर्व किस बात पर होता है?

Published by Anonymous on behalf of Shanky_Salty
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

अफसाने तेरे पन्नों में…..!!!!

May 31, 2020
Shanky❤Salty
एक खुश-खबरी आप सभी के साथा साझा करना चाहता हूँ।
अफसाना तेरे पन्नों मेंमधुसूदन सिंह का पहला काव्य-संग्रह है। इस संग्रह में गीत एवं कविता का शानदार मिश्रण है।
“मधुसूदन सिंह के कविताओं एवं गीतों में भावनाओं एवं कल्पनाओं का अद्भुत प्रवाह है। जिसे पढ़कर ऐसा लगेगा जैसे उन पन्नो में दर्ज अफसाने अपने ही हैं।
मधुसूदन सिंह का जन्म 17 जनवरी 1973 को नाना के घर गाँव खुदरांव जिला रोहतास में हुआ था। उनका बचपन ननिहाल में ही गुजरा। उनका पैतृक गाँव डिहरी जो कि बिहार के औरंगाबाद जिले में स्थित है। उनके पिता श्री सुरेंद्र सिंह किसान एवं उनकी माता श्रीमती रेवती देवी गृहिणी हैं। वे चार भाई, बहनों में दूसरी संतान हैं। मधुसूदन सिंह की पत्नी का नाम नीलम सिंह है।
मधुसूदन सिंह अपनी प्रारम्भिक शिक्षा नाना जी के यहाँ प्राप्त करने के पश्चात सीता उच्च विद्यालय हरिहरगंज पलामू,झारखंड से दसवीं तथा मगध यूनिवर्सिटी से अर्थशास्त्र में स्नातक की डिग्री हासिल की। चुकि परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं होने के कारण शुरुआती दिनों में उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। जिसके कारण वे स्नातक की उपाधि हासिल करने के तुरन्त बाद पाँच वर्षों तक परिवार से दूर रोजगार की तलाश में दिल्ली में भटकते रहे और एक संस्थान में नौकरी करते हुए सम्पूर्ण उत्तर भारत का दौरा किया। वर्तमान में वे राँची स्थित एक निजी संस्थान में कार्यरत हैं। वे बचपन से ही नाट्यमंच से जुड़े रहे मगर जीवन की आपाधापी में वे साहित्य से दूर हो गए। कहते हैं जिसके नस नस में साहित्य समाया हो भला वह कबतक अपने आप को लेखनी से दूर रख पाता है। आखिरकार वे सन 2017 में वर्डप्रेस से जुड़े और वे आज करीब 500 सौ से ऊपर कविताएँ लिख चुके हैं। और आज उनकी पहली काव्य संग्रह ‘अफसाने तेरे पन्नों में’ प्रकाशित हुई है।

Title: Afsane Tere Panno Mei
Product ID: 195201-1335597-NA-NED-T0-NIKI-REG-IND-DIY
ISBN: 9781648995057
Format: Paperback
Date of Publication: 30-05-2020
Year: 2020
Page: 94
Price: ₹120

Click here to order book.

Posted in Uncategorized

कुछ ऐसा है……!!!!!

May 14, 2020
Shanky❤Salty
ओए पागल…..!!!!
सुनो न,
हाल-ए-दिल का समंदर अभी सूखा नहीं है
आँखों से पानी अभी बहा नहीं है
सुना है मैंने
हैरान हो जाते हो
मुझे चुप देखकर
मुझे हारता देखकर
समझाऊं तुझको कैसे मैं
अंदाज ही मेरा कुछ
ऐसा है

Published by Anonymous on behalf of Shanky_Salty
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in #parents, Challenge, Old Age Home

अपनी कुटिया…..!!!!

March 11, 2020
Shanky❤Salty
दूर एकांत में कहीं
चलो चलते हैं
अपनी कुटिया ,अपनी दुनिया
बुढ़ापे की हमारी छोटी सी दुनिया
चलो ना चलते हैं
दूर एकांत में कहीं
सहारे सारे छूट गए
अपने सारे रूठ गए
कौन रहा है कौन रहेगा
अपनी तो अब फटी बिछनिया
बुढ़ापे की हमारी छोटी सी दुनिया
वही तपती धूप में तुम
कांपते हाथो से पंखा झल देना
जो जाड़े की सर्द रातें हो
तो अटकती सांसो की गर्मी दे देना
वो यौवन का प्रेम अब
चला है होने को अमर
तुम संग मेरे यही अपनी
देह त्याग देना
चलो ना चलते हैं
अपनी कुटिया,अपनी दुनिया
बुढ़ापे की हमारी छोटी सी दुनिया
वो महक तेरे केसुओ की
झंकार तेरी पायल की
मैं खोता चला जाता हूं
डूबता चला जाता हूं
जब भी तुझको देखता हूं
तुझ सी खूबसूरत तेरी आभा की झुर्रियां
खन खन करती तेरी चूड़ियां
मैं प्राण त्याग दूंगा तुझमें
तुम मुझमें सम्मिलित हो लेना
जब सांसे अटकती हुई जा रही हो
तुम हाथ दिल पर रख देना
चलो ना चलते हैं
दूर एकांत में कहीं
अपनी कुटिया ,अपनी दुनिया
बुढ़ापे की हमारी छोटी सी दुनिया

This is an Imagination Challenge post given by Sohanpreet Kaur
And thank you soooo much Dr. Sakshi Pal for kind support.
Posted in Uncategorized

म़जाक या फिर रिश्ते….!!!!

January 24, 2020
Shanky❤Salty
कहीं भी घर बना लो
कहीं भी रिश्ते बना लो
या यूँ कहूँ तो
ज़िन्दगी का तुम मज़ाक बना लो
मालूम है न तुम्हें
सारे रिश्ते हैं झूठे
साँस रुकते ही टूटे
फिर-भी हम कभी-भी कही-भी किसी से भी
रिश्ते बना लेते हैं….मन मंदिर में घर बना लेते हैं
बेटा-बाप का नहीं हो पाता है
बेटी-माँ की नहीं हो पाती है
शिष्य-गुरू का नहीं हो पाता है
दोस्त आस्तीन का साँप बन कर रह जाता है
क्या कहूं मैं ???
बाप, बेटे में कैसी ये दूरी है
माँ, बेटी में कैसी ये मजबूरी है
राह चलते हम रिश्ते बना लेते हैं
पर खून के रिश्ते हम क्यों नहीं निभा पाते हैं
क्यूँ हम
अक़्सर एहसासों के रिश्तों को ही सच्चा मान लेते हैं…!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

उसने मुझसे कहा….!!!!

December 15, 2019
Shanky❤Salty
मैं यह कह कर रोता रहा
“की तू मेरी किश्मत में नहीं”
.
.
पर उसने मुझसे कहा
“जनाब मैं कैसे समझाऊं आपको
ये किश्मत विश्मत की बातें
जुए में होती है
इश्क में नहीं”

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

मैं भुल क्यों नहीं पाता हूँ……!!!!

December 13, 2019
Shanky❤Salty
हजारों रास्तें हैं
इस ज़िंदगी में
पर तेरे संग चला हुआ रास्ता
मैं भुल क्यों नहीं पाता हूँ
न चाह कर भी मैं
निराशा की गोद में क्यों सो जाता हूँ
खिड़की से हर वक्त
उम्मीद कि किरण मुझको है झाकती
मैं उससे आँख मिचौली खेल कर रह जाता हूँ
माना की नींद मुझसे रुठी है
पर क्यों मुझसे ही सारे रिश्ते टूटे हैं
जब से तुम गईं हो
बहुत कुछ कह कर मुझको
हकीकत कहता हूँ मैं तुझको
आये तो कई लोग ज़िंदगी में
दर्द को जानने
क्या पता था मरहम के जगह में
खुरेद चले जाएंगे मेरी ज़िंदगी को
विश्वास कर बैठा था हर किसी पर
क्या पता था घात कर जाएंगे मेरे विश्वास पर
एेसा नहीं है की तुम्हारे जाने से
सब कुछ खत्म हो गया है
बस कुछ खाली सा रह गया है
थक सा गया हूँ मैं इस ज़िंदगी से
बस दिल चाहता है
खोल मुट्ठी लेटने को जी चाहता है
हाथ जोड़ सबको अलविदा मैं कह दूं
इस ज़िंदगी से विदा अब मैं ले लूं

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

देश के प्रति…..!!!!!

December 12, 2019
Shanky❤Salty
कर दिया है हमने भी मतदान
देश के प्रति
निभा दिया है हमने भी एक छोटा सा फर्ज अपना
है देखना अब मुझको
देश के प्रति
निभा पाती है आने वाली सरकार फर्ज अपना

Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

श्रीमद्भागवत गीता…..!!!!

December 8, 2019
Shanky❤Salty
शरीर कि मलिनता दूर करने के लिए
नित-प्रतिदिन नहाना जरूरी है
वैसी हि
ह्रदय कि मलिनता दूर करने के लिए
नित-प्रतिदिन “गीता” के ज्ञानरूपी
सागर में डुबकि लगाना जरूरी है
  • गीता केवल एक ग्रंथ या पुस्तक नहीं है अपितु जीवन जीने कि कला है।
  • गीता ऐसा अद्भुत ग्रंथ है कि थके, हारे, गिरे हुए को उठाता है, बिछड़े को मिलाता ह, भयभीत को निर्भय, निर्भय को नि:शंक, नि:शंक को निर्द्वन्द्व बनाकर नारायण से मिला के जीवन का उद्देश्य समझाता है।
  • विश्व की 578 भाषाओं में गीता का अनुवाद हो चुका है।
  • हर भाषा में कई चिन्तकों, विद्वानों और भक्तों ने मीमांसाएँ की हैं और अभी भी हो रहीं हैं, होती रहेंगी।
  • इस ग्रंथ में सब देशों, जातियों, पंथों के तमाम मनुष्यों के कल्याण की अलौकिक सामग्री भरी हुई है।
  • भोग, मोक्ष, निर्लेपता, निर्भयता आदि तमाम दिव्य गुणों का विकास करनेवाला यह गीताग्रंथ विश्व में अद्वितीय है।
  • स्वामी विवेकानंद जी तो श्रीमद्भगवत गीता को “माँ” कहा करते थे।
  • मदनमोहन मालवीय जी श्रीमद्भगवत गीता को “आत्मा कि औषधि” कहा करते थे।
  • श्रीमद्भगवत गीता किसी धर्म, जाती, समुदाय, मजहब का पुस्तक नहीं है अपितु यह संपूर्ण मानव जाती के लिए है।
  • श्रीमद्भगवत गीता वह ग्रंथ है जिसने युद्ध के मैदान में अर्जुन को योग कि कला सिखा थी।
  • श्रीमद्भगवत गीता वह ग्रंथ है जो हमें सिखाती है “सुख टिक नहीं सकता और दुःख मिट नहीं सकता”
  • मुझे लगता है कि गीता को हाथ में रखकर कसमें खाने से कुछ नहीं होगा अपितु गीता को हाथ में रखकर पढ़ना होगा।
  • ज़िंदगी कि एैसी कोई समस्या नहीं है जिसका समाधान श्रीमद्भगवत गीता में ना हो एैसा मेरे विश्वास है।
हम सब ईश्वर से प्रार्थना तो करते है

 

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः।

 

 

सर्वे सन्तु निरामयाः।

 

 

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु।

 

 

मा कश्चित् दुःख भाग्भवेत्॥

 

 

ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः॥

 

हिन्दी भावार्थ:

 

सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी का जीवन मंगलमय बनें और कोई भी दुःख का भागी न बने।

 

 

हे भगवन हमें ऐसा वर दो!

 

पर यह संभव तभी है जब श्रीमद्भगवत गीता को जीवन में अपनायेगें।
बस जीवन में एक बार पढ़कर देखो “मोहब्बत कि बरसात ना हो गईं तो कहना”

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

One More Time…..!!!!

November 21, 2019
Shanky❤Salty
Do not give up
Even if you fail
Try one more time
Just one more
I’m sure
You will definitely get success
गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में
वो तिफ़्ल क्या गिरे जो घुटनों के बल चले

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

क्यों मैं निःशब्द हो जाता हूँ….!!!!

November 18, 2019
Shanky❤Salty
हम अजनबी थे ना….”बोलो ना हाँ”
हम जानते थे एक दूसरे को…..”बोलो ना नहीं”
फिर क्यों साथ चल दिये मेरे….???
एक ही ब्रान्च में थे इसलिए
या कोई स्वार्थ था इसलिए
या किसी ने कुछ कहा था इसलिए
है कोई जवाब
अच्छा छोड़ो ये सब
चलो कुछ और बता दो मुझे
भूख लगती थी मुझे तो तुम डाँटते क्यों थे
फिर रात को खाना खिलाने भी ले जाते थे
माना कि मैं एक-दो रोटी से ज्यादा नहीं खा पाता था क्योंकि मेरा पेट भर जाता था तुझे खाता देख
चाहे ठंडी हो या गर्मी मेरा ड्राइवर तू ही रहा करता था
हाँ और भी बेहतरीन ड्राइवर थे मेरे पास पर तू शायद ख़ास था क्योंकि तू मुझे अपनी पीठ पर सुलाया करता था
हम दोनों ही थे ना फोर्थ फ्लोर में जो सेमेस्टर के दिनों में बेफिक्र अपनी ही मस्ती में किताबों से दूर रहते थे
शायद अब तुम समझ गये होंगे मैं तुम्हारी ही बातें कर रहा हूँ
पर समझ कर क्या कर लोगे कुछ नहीं ना तो फिर चुप होकर आगे पढ़ते जाओ ना
याद है तुम्हें जब मेरे पेट में दर्द रहता था और मैं अस्पताल जाने में लापरवाही करता था तो तुम ही मुझे डाँट कर अस्पताल ले जाते थे
वो 6 बजे सुबह भी याद होगी ही तुम्हें जब तुमने मेरा पैर खींच बेड से नीचे उतार दिया था और स्कूटी की चाबी लेने नीचे भेजा था
अल्ट्रासाउंड टैस्ट में ले जाने के लिये
अगर नहीं भी याद तो कोई नहीं मुझे सब याद है तुम बस अब चुप होकर पढ़ते जाओ जो मैं लिख रहा हूँ
वो तुम ही थे ना जो मुझ से मिलने अस्पताल आये थे मेरे एक बार बुलाने पर
याद है ना मेरी मम्मी बोली थी की आज इतना ज़्यादा ख़ुश है तुमसे मिलकर
और
उठ कर बैठा है
तुम जब जाने लगे थे तो मैंने तुझे 👍 एैसा इशारा किया था जिसका मतलब तुम नहीं समझे थे कोई नहीं समझा दूँगा तुम आगे पढ़ते तो जाओ
तुम मेरे अस्पताल से छुट्टी वाले दिन भी आये थे ये बात मैं अपनी आखिरी साँस तक नहीं भूल सकता
अगर तुम भूल गये हो तो कल से बादाम खाया करो
शायद तुम ना होते तो मेरे पापा मम्मी की जान निकल जाती मुझे होटल तक ले जाने में तुमने जो मुझे गोद में लिया था भाई उसके लिये ना चाहते हुए भी तुम्हें दोनों हाथ जोड़ धन्यवाद कहता हूँ 🙏
और भी हज़ारों,लाखों पल आये थे जब तुम मेरे साथ खड़े थे या यूँ कहूँ तो तुम मुझे पास थामे थे
वक़्त पड़ने पर तुमने मुझे
पिता जैसी डाँट लगाई है पर तुम पिता तो नहीं हो मेरे
माँ जैसी प्रेम दिखाया है पर तुम माँ तो नहीं हो मेरी
भाई जैसा स्नेह किया है पर तुम भाई तो नहीं हो मेरे
सच कहूँ तो तुझ से कौन सा रिश्ता है नहीं जानता
माना की हम बचपन के दोस्त नहीं हैं पर हमारा बचपना अभी तक गया नहीं है
दोस्त कहता हूँ तुझे पर सच कहूँ तो तुम दोस्त भी नहीं हो मेरे
क्योंकि वक़्त-बे-वक़्त दोस्त भी साथ छोड़ देते हैं
कोई मुझे मिल्कीबार दे,दे या मुझे समौसे खिलाने की बात कर दे तो मैं उससे तुरंत ख़ुश हो जाता हूँ

पर तुझ से ये सब लेने की चाह नहीं है बस तू मुझे कुछ खाता नज़र आ जाये मेरे मुस्कुराने कि वज़ह बन जाती है
तूने कहा था ना सचिन गुरुरानी पे लिख लेकिन मुझे माफ़ करना
मैं उन यादों को छोड़ तुम पर बहुत कुछ लिखना चाहता हूंँ
पर ना जाने क्यों मैं नि:शब्द हो जाता हूँ

तुम अजनबी से कब हमनबी बन गये पता ही नहीं चला…!!
बस भाई बाक़ी फ़िर कभी 😅

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

कुछ नया करते है….!!!!

October 27, 2019
Shanky❤Salty
घर और मन की साफ-सफाई हो गईं हो तो
चलो ना इस दीपावली कुछ नया करते हैं
रौशन गली-मोहल्ले, चौक-चौराहे तो होंगे ही
वक्त है अब दिल के दीप जलाए रखने का
ज़िंदगी कि कशमकस से थोड़ा वक्त निकालना होगा
अपनों के साथ वक्त बिताना होगा
लक्ष्मी की पूजा कर धन तो कमाना होगा
साथ ही सरस्वती की भी पूजा कर
धन को बुद्धिमता से सदुपयोग करना होगा
बुझ रही हो गर किसी के जीवनदीप तो
लौ खुशी की, बन ज्योति, आनंद की,
चलो उस लौ को अपने हथेलियां बढ़ाकर प्रज्वलित रखना होगा
हिंदू-मुस्लिम-सिख-ईसाई धर्म से उपर उठ
मानव धर्म को अपनाना होगा
चलो इस दीपावाली कुछ नया करते हैं

Written by:- Ashish Kumar
Thank you so much SG16 for supporting.
Posted in Uncategorized

दोस्त और दोस्ती……!!!!

September 26, 2019
Shanky❤Salty

ये दोस्ती भी बड़ी गज़ब की है
ना रंग देखती है, ना ढ़ंग
ना जात देखती है, ना पात
ना उम्र देखती है, ना रूप
जब से मेरे दोस्त मेरी ज़िन्दगी में आये हैं
ग़म मुझे मुड़ कर नहीं देखती हैं…!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

ना जाने कब…..!!!!

September 14, 2019
Shanky❤Salty
हज़ारों सवाल मन में लिए बैठा हूँ
पूछें तो पूछें किस से
सब अपने सवालों में उलझे हैं
वैसे तो मैं बुरा बन बैठा हूँ
क्योंकि मैंने सफाइयाँ देनी जो छोड़ दी हैं
ना जानें कब, कैसे, किस से मेरे सवाल हल होंगे
ना जानें कब हम रोते हुए ख़्वाबों को सच करेंगे
और
ना जाने कब हम मुस्कुराकर ज़िन्दगी को जियेंगे…!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

बनारस घाट…….!!!!!

August 7, 2019
Shanky❤Salty
तुम चाहती हो ना
बनारस घाट पर बसना
मैं भी चाहता हूँ तुम्हारे संग
बनारस घाट पर बसना
तुम गंगा स्नान नहीं चाहती हो ना
बस राख बन
उसमे प्रवाहित हो जाना चाहती हो ना
पर मैं तो गंगा स्नान कर
तेरी राख को खुद में
लपेट अघोरी बनना चाहता हूं
तुझसे सुना था की तुम
महादेव कि ज्योत जला पूजा नहीं कर सकती इसलिए खुद की देह को जलाना चाहती हो ना
जीते जी तुम मन ही मन महादेव की पूजा
दूध, दही, शहद, घी, जल, पुष्प से करना चाहती
पर ये सब तो निषेध था मेरी निधि के लिए
पर मैं तो तेरी चिता की आग से महादेव की मंगला आरती करना चाहता हूं
तेरी शरीर की राख से अपने शंभु की भस्म आरती करना चाहता हूं
सांस चलते तक निधि के लिए निषेध था
पर साँस रुकते ही इस आशिष ने सब कुछ संभव कर दिया
खुद तो कभी गंगा में डुबकी लगा पावन हो ना सकी
पर हर एक को डुबकी लगावा पावन कर दिया जिसने तुझे कन्धा दिया
चंद लोग ही ना थे जो मेरी निधि को महादेव के मंदिर का घंटा बजाने से रोकते थे
आज वही लोग निधि के जाते ही मंदिर की घंटाध्वनि सुन आँखों से आँसू बहा रहे है
मणिकर्णिका घाट पर निधि खामोश हो लेटी रहेगी
लेकिन हर कोई चिख रहा होगा
निधि के जाने के गम में या फिर हल्दी बंद होने के दर्द में
न जाने कौन सी है ये रीत इस दुनिया कि ओ मेरे महादेव
जीते जी इस निधि की पूजा निषेध है
हे शंभु इस दुनिया की रीत एक तरफ रख दो
या फिर
निधि का निश्छल प्रेम स्वीकार कर लो
नहीं तो
अंत में तैयार रहो
भस्म आरती के लिए
हाँ महादेव वही भस्म आरती
राख से
हाँ
हाँ
हाँ
निधि कि राख से

This is a collaboration with Nidhi Gupta

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

My 1st Book…..!!!!

August 5, 2019

Shanky❤Salty

Hello, my incredible writers’ & lovely friends’, I have finally published my Poetry book “Yaado K Panno Se” on Notionpress, Flipkart & Amazon. It is available in paperback form.
This book was possible only because of encouragement and motivation from all my blogger friends’ and my family who have always followed me on my blog and inspired me to write & publish my collection in international market.
Key Features
Language: Hindi
Binding: Paperback
Publisher: Notion Press
Genre: Poetry
ISBN: 9781646500161
Edition: 1
Publishing year: 2019
Pages: 60
I would like to express my special thanks of gratitude to my publisher “Notionpress“, my modifier-cum-editor “Nidhi Gupta🐿️” who encouraged me through the entire period of this journey. Secondly, I would also like to thank my “Parents”, Treasury partner “Sumit Kr. Ambastha“, my special friend Sachin Gururani who helped me a lot in finalizing this book within the limited time frame.

I am being over helmed in all humbleness and gratefulness to acknowledge my depth to all those who have helped me to put these ideas, well above the level of simplicity and into something concrete. Any attempt at some level can’t be satisfactorily completed without the support and guidance of my parents and friends. I would like to thank my parents who helped me a lot in gathering different information, collecting data and guiding me from time to time in publishing the book, despite their busy schedules, they gave me different ideas in publishing the book.
Buy My Book from:
Notionpress
Flipkart
Amazon
Please do visit the link and buy this book. If you contribute to buy this book, it would be very big support from your end to grow and enhance my career. It’s my humble request to support me.
Thank you all, who already buy and gone through my book. Happy reading dear friends. Keep supporting me.
Posted in Uncategorized

काश……!!!!!

July 20, 2019
Shanky❤Salty
ये “काश” ही है
जो ज़िंदगी की खुशियों को थामें रखती है
सुनो ना……
हर हाल में खुश होना सीख लो
गम को खुद से दुर रखने कि कला सीख लो

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

है कोई…….!!!!!

July 13, 2019
Shanky❤Salty
लोग अल्फाज चुरा लेते हैं
तुम नींद चुरा लेती हो
ऐ खुदा बता मुझे
इस जहां में कौन है जो मेरा दर्द चुरा ले जाये

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in #birthday, Uncategorized

Dear Manager…….!!!!

June 29, 2019
Shanky❤️Salty
Dear Manager,
Do you know you are a blessing for your friend’s group? I believe that person’s can give their time as a most precious gift, as you can never take it back and you can also gift your time to them. You’re man, who simply make everything brighter. A simple day can become special because of you like a birthday party OR a trip OR a night out OR a technical event OR Uddharsha OR any function that you manage. You always make ordinary moments into extraordinary, But I always tease you. Dear there are lots of memories that we’ve spent in our college life. As well as chugli’s. In our group you’re an only vegetarian guy who eat Egg-roll😂

You know that we surely have different interest’s and point of view because we’re not blood related but we’re brothers from another mother. There are few misunderstanding & dull moment with us, but we never judge each other. We left it because we know that in rose there are few thorns are available.
You deal with my immaturity. I’m very hard to deal with people & times, but you never left me. You always try to understand and love me behind my flaws.

Brother, I’m not always present to celebrate with you the good times, knowing that I’m always happy and proud of you. And for the bad times, my shoulder is always ready for your tears. But don’t be tense. Bad times never come in front of you.
I’m not even sure if I deserve your trust. You trust me with a lot of things in your life. And I promise not to do anything stupid that will break your trust.

You’re very strong, independent, caring and selfless. Specially a good manager OR leader. You know that this letter wouldn’t end. Because there’s surely a million memories and reasons I would want to write and thank you for, but words are not enough.
Thank you sooooooo much Rahul Kr. Singh for being in my life & Wish you a Very Happy Birthday.

जिस तरह मैं इस भीड़ में खो गया हूँ ना
बस उसी तरह तेरे चेहरे के पीछे छुपी हुईं उदासी भी कहीं खो जाए
और
मेरा भाई दिल से खुश हो जाए यही दुआ हम करते है

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

वो आएँगी…….!!!!!

June 5, 2019
Shanky❤Salty
वो आएँगी
पर पता नहीं
कब आएँगी
पर पता है
जरूर आएँगी
.
.
.
जब भी आएँगी
मुझे खुशियों से भर देगी
जब भी आएँगी
अपनों के आँखें भर देगी
जब भी आएँगी
मुझे नई ज़िंदगी देगी
.
.
.
उसके आते ही
वादा है सब कुछ छोड़ दूँगा
उसके आते ही
वादा है उसे अपना बना लूंगा
उसके आते ही
वादा है मैं मुस्करा दूँगा
.
.
.
कब आएँगी
कैसे आएँगी
क्या पहन आएँगी
क्या लेकर आएँगी
किस रूप में आएँगी
पर जरूर आएँगी
.
.
.
चुपके से आएँगी
या दस्तक दे आएँगी
पर सुनो ना………
वो आएँगी
.
.
.
पता है ना कौन??????
.
.
.
अरे वही यार
.
.
.

.
.
.
मेरी मौत

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

फर्क…….!!!!

May 20, 2019
Shanky❤Salty
जब होती हो तुम उदास
तब खेलती हो तुम एक खेल
जब होता मैं उदास
तब खेलता मैं भी एक खेल
बस फर्क इतना है की
तुम खेलती हो खेल जज़्बातों से
और मैं खेलता खेल शब्दों से

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

ज्ञानरूपी माँ…….!!!!

May 12, 2019
Shanky❤Salty
न्यायालय में गीता की कसमें खिलाई जाती
किन्तु कभी गीता पढ़ाई नहीं जाती
कसमें खाने के बाद भी झूठ बोल सकते हो
परन्तु मेरा विश्वास है निरंतर गीता पढ़ने वाला झूठ नहीं बोल सकता
मैं पुनः कहता हूँ गीता किसी देश, धर्म, जाती, पंथ, समुदाय का नहीं है बल्कि मानव मात्र के लिए है। गीता की कसमें खा सच को पचाना उद्देश्य नहीं है। गीता तो थके, हारे, गिरे हुए को उठाता है बिछड़े को मिलाता है भयभीत को निर्भय, निर्भय को नि:शंक
नि:शंक को निर्द्वन्द्व बनाकर जीवन जीने कि कला सिखाता है।
माँ बच्चों को निःस्वार्थ भाव से प्रेम करती है उसी तरह मातृ रूपेण गीता भी ज्ञान देकर जीवन का सर्वांगीण विकास करती है।
माँ कि गोद में जिस तरह कि शांति मिलती है ठीक उसी तरह कि शांति गीता के ज्ञान में है
विश्वास नहीं होता ना……..तो सिर्फ एक बार पढ़ कर देखो

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

कुछ तो बात होगी…..!!!!

May 8, 2019
Shanky❤Salty
मेरी ज़िंदगी दुःखों का सागर बन चुका है
तुम आ जाओ ना
खुशियों कि कश्ती ले कर

ये क्या हो गया है इसे😨

फिर से उदासी के सागर में😟

कुछ तो बात होगी😳

Published by “Anonymous” On behalf of Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

There was a girl….!!!!

March 8, 2018
Shanky❤Salty
For himself
Bigger problem were
Standing up & standing
There was a girl,
Girl was a daughter, daughter was a sister, sister was a girlfriend.
Mother was a wife, wife was a daughter-in-law.
And do not even know what as.
But she was not just she
By making the folds of cloths like that
She shut himself down
Inside the door
Like cleaning the house
She’ll broom my houses
Like a cooker sheet
Answer my silence
Like stolen money that
Mocking she
That the whole house of mine is mine
But her own privacy closed in an angle
Not seen anywhere on the ground
When-when she tired
Find herself…..she found………she have been
Bad daughter, bad sister, bad girlfriend.
Bad wife, bad mother, bad daughter-in-law.
Do not know even know what
What are all doors closed
Who is stoping her
Inwardly
Is her privacy so expensive
That she can not buy
Own freedom
By herself
Posted in Uncategorized

एैसा क्यों…….!!!!

April 19, 2019
Shanky❤Salty
ये दुनिया भी बड़ी अजीब है
रोते हुए के आँसू नहीं पोछती है
बल्कि उत्सुकता से पूछती है
क्या हुआ
और अगर ना बतलाओ तो
थोड़े और आँसू दे जाती है

Written by:- Ashish Kumar
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

Teacher’s Day……!!!!!

September 5, 2018
Shanky❤Salty

Dear Teacher’s

To the world you may be a teacher. But to your student you are the hero.
I may not be perfect, but you are the perfect guide for me to have bright future.
I know I’ve not been the same you have expected from me.
I’ve not shown you the results what you wanted from me putting in your efforts. But one thing I bet you’ll be proud of me one day that I was your student.
To My Beloved Teacher, who has inspired many students like me. On this wonderful day I take opportunity to thank you for a playing a significant role in my life and being a major reason for who I’m today I’ll definitely “Make You Feel Proud One Day”. My warmth and lovely wishes to you.
Thank you for making me realize that its not how we’re told as we grow up For shattering the myths in my mind. About people about society Before it was too late For putting me in all good and bad situations Grinding me to evolve and for making me fall again and again So that I can get up on my own. I hope you’ll start appreciating me soon Don’t you think I’ve scored good in your exams? But above all thank you for making me strong you’ll always be my favorite teacher.

Thank you so for your unbeatable support🙏

Image credit SG16