Posted in Uncategorized

तुम मुझे नहीं समझते…….!!!!

May 25, 2021

Shanky❤Salty

“तुम मुझे नहीं समझते”
वो अक़्सर मुझसे कहती थी

ग़र ये बात वो समझ जाते
तो हर दफ़ा यह मुझे नहीं समझाते

कैसे कहूँ मैं
यह समझने की च़ीज है
समझाने की नहीं

यार समझता सब कुछ हूँ
पर समझा नहीं पाता
और रही बात समझने की
तो वो जख्म लगने पर
खुद-ब-खुद समझ आ जाती है…

Posted in Uncategorized

अकेलापन……!!!!

May 23, 2021

Shanky❤Salty

अकेलापन जैसा कुछ भी नहीं होता है
ग़र अकेलेपन को तुम महसूस करतें हो तो
यकीनन तुमनें खुद का भी साथ छोड़ा ही दिया होगा

Posted in Uncategorized

ओ मेरे यारा…..!!!!

May 21, 2021

Shanky❤Salty

तुझे देखने के लिये ही
मंदिरों में भीड़ लगती है
हमनें तो तुझे
हृदय मंदिर में ही देख लिया है ।

तुझे पाने के लिए लोग काबा गये
हमनें तो तुझे इंसानों में ही देख लिया है ।

कहाँ खोजूं मैं तुझे कहाँ तू नहीं है
वो ज़गह ही नहीं है जहाँ तू नहीं है

खाने वाला भी तू खिलाने वाला भी तू
बरसाने वाला भी तू भीगनें वाला भी तू

सुनने वाला भी तू सुनाने वाला भी तू
जीवन देने वाला भी तू लेने वाला भी तू

ओ सुनने वाले ज़रा मुझ पर यूँ रहम अदा फ़रमा दो
इस काया को मिट्टी में मिला कर मुझे खुद में मिला दो…!!

Posted in Uncategorized

जिंदगी रेलगाड़ी सी…..!!!!

May 18, 2021

Shanky❤Salty

ये जिंदगी
कुछ रेलगाड़ी सी हो गई है
कि तुम अभी कुछ वक्त -साल
अपनी ही सीट पर बैठे रहो,

तुम बाहर तो देखो
पर तुम बाहर मत निकलो
क्योंकि बाहर करोना जो है,
तुम खाओ, सो, उठो
और फिर खा कर फिर से सो जाओ,

बस जिंदगी रेलगाड़ी सी हो गई है
सब बैठें हैं अपनी-अपनी सीटों पे,
पर एक दुजे से अनजान हैं,


तुम इंतज़ार करो रेल रूकने का
वरना चार जन भी नहीं मिलेंगे
तुम्हारे जनाजे को उठाने के लिए,


बिलख-बिलख रोएगी तुम्हारी जोड़ी
पर जंगल की लकड़ी भी नसीब नहीं होगी
तुम्हें पंच तत्व में विलीन करने को,


तुम घबराओ नहीं
जल्द ही रुक जाएगी ये रेलगाड़ी
ग़र सब्र के साथ तुम बैठोगे अपनी सीटों पे
हाँ टिकट लेना ना भुलना
राम नाम का
नहीं तो कटने में देर ना लगेगी

Posted in Uncategorized

Truth Or Conspiracy……!!!!

February 24, 2021
Shanky ❤Salty

My fifth book has been published on February 16, 2021. I have written some of my experiences in this book. And some such untold story by our Indian media or paid media or fabricated media. This book is written for the mature reader. Its purpose is not to hurt anyone’s feelings. Neither is it in favor or opposition to any person, society, gender, creed, nation or religion. These are my own views.

In this book you read about:-

  • Some Cultures Of The World
  • Culture Of India
  • Indian Saint

  • What Is The Purpose Of The Saint?
  • Gautam Buddha
  • False Accusations On Gautam Buddha
  • Jayendra Saraswati Shankaracharya
  • False Accusations On Jayendra Saraswati Shankaracharya
  • Asaram Bapu
  • Parliament Of World Religion
  • Scientific Conclusion Of Asaram Bapu Aura
  • Women Empowerment
  • Divine Baby Rites
  • Stop Abortion Campaign
  • Cesarean Delivery
  • Spiritual Awakening Campaign
  • Prisoner Uplift Program
  • Vrinda Expedition
  • Tribal Welfare
  • Gurukul
  • Valentine’s Day
  • Protection Of Cows From Slaughterhouses
  • The Main Reason Why Asaram Was Targeted
  • False Accusations On Revered Bapuji
  • What Are People Saying
  • Attack On Hinduism

I offer my gratitude to God. Those who inspired my writing. I thank you to my mother Pramila Sharan. Without her blessings, the existence of this book was difficult. I’m grateful to the writers, readers & critic bloggers who helped to make my writing the best. I would also like to thank you to Radha Agarwal, who helped me and did a proof reader. I thank to Rekha Rani ma’am for helping me in this book. Who raised the respect of my creation with their thoughts. Also, my heartfelt thanks to those who helped to write this book.
Hope that by reading this book, you will try to understand and appreciate my point of view. And give your feedback.
My book is available on Amazon & Notionpress

Posted in Uncategorized

अयोध्या वासियों से अनुरोध…….!!!!

February 10, 2021
Shanky ❤Salty
बड़ा व्याकुल है मन हमारा
कभी सम्मान ना मिला
हमारी माँ सीता जो को
आपकी अयोध्या जी में
ब्याह कर के आईं थीं हमारे राम जी से
षड्यंत्रों का शिकार हो वनवास को गई हमारी माँ
अग्नि परीक्षा तक देना पड़ा हमारी माँ को
फ़िर भी चैन ना मिला आपके अयोध्या वासियों को
क्या से क्या कह गए हमारे राम जी को
त्याग सीता को प्रजा का सम्मान रखा राजा रामचंद्र जी ने
है विनती मेरी आपके मोदी जी से
बनवावें रामलला का भव्य मंदिर
पर वो सम्मान लौटावे जो प्रेम किया था हमारे राम जी ने हमारी माँ सीता जी से…

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

मेला है या खेला है……!!!!

January 18, 2020
Shanky❤Salty
सबको नंगा आना है
पावन गंगा के तट पर ही जाना है
वो चले गए हैं
मुझे जाना बाकी है
कुछ को अभी आना बाकी है
सच कहूँ तो
दो दिन का मेला है
ज़िंदगी का यही खेला है
बाँध मुठ्ठी आना है
कमा-कमा कर झोली भरना है
खोल मुठ्ठी तो सबको जाना है
जो कुछ भी खोया या पाया है
सब कुछ ही तो कर्मों का खेला है
सबको तू अपना मान बैठा है
पर चिता पर लेटना अकेला है
यारा कहा था ना
दो दिन का मेला है
ज़िंदगी का यही खेला है…

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

Break…..!!!!

August 16, 2020
Shanky❤Salty
ज़िंदगी का दरवाजा
अब मैं कुछ पल के लिए बंद करता हूँ
रिश्तों की उलझन से अब खुद को दूर करता हूँ
न वक्त बुरा है
न है लोग बुरे
हूं मैं वफा खुद से
और हूँ खफा भी खुद से
जब साथ ही न हो शरीर
और दिमाग खुद का
तो क्यों है उठाना उँगलियाँ किसी पर
न कोई बात है
और न ही कोई साथ है
बस मुझको बहुत कुछ याद है
और अब उन यादों के सहारे
खामोशी के गोद में कुछ पल के लिए
मौन हो कर लेटना है

Hello everyone, hope you all are very well. But I’m not.
I’ve decided to take a break from blogging and posting. I don’t know this break is long or short. But it’s not leaving forever.
I request you to everyone please drop your post link in my instagram or mail. Because you all are incredible. I don’t want to miss anyone post. So, please understand.
©Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

आत्मशिव…..!!!!

February 21, 2020
Shanky❤Salty
महाशिवरात्री जागने का पर्व है
अपने अंदर के आत्मशिव को जागने का पर्व है
जीव शिव है
शव भी शिव है
सब कुछ शिव है
बिन शिव कुछ भी नहीं है
मेरे शिव जी समर्थ तो हैं
पर हमें मारने में असमर्थ हैं
हाँ-हाँ शिव जी ने ही ज्ञान दिया है
मृत्यु आएगी पर हमारी मृत्यु हो नहीं सकती
यह परम सत्य है
मृत्यु तो कपड़े बदलने की तरह है
इस ज़िन्दगी को छोड़ दूसरी ज़िन्दगी को अपनाना है
फ़िर किस बात का डर है
रोना क्यूँ है
क्या कहूँ नाथ जी आपसे
सुनते सब कुछ हैं
पर कहते कुछ भी नहीं
बस झोलियाँ भर-भर देते हैं
लीला कर हर वक़्त अपनी ओर खींचते हैं
भर-भर प्याली मुझको आप ही तो पिलाते है
बिन कहे अन्हद नाद आप सुनाते हैं
च़िता कि राख़ हो
या चंदन का लेप हो
हर कुछ मुझको प्यारा लगता है
हर कुछ मुझको अपना लगता है
माना की वो राखी टूट गई मुझसे
पर वह रिश़्ता अब भी बरक़रार है
हाँ नाथ जी वो रूद्राक्ष भी बिख़र चुका था
पर आपने मुझको समेट रखा था
मेरे शिव ने मेरी शक्ति से कहा था
नास्ति ध्यानं सम तीर्थं
नास्ति ध्यानं सम यज्ञं
नास्ति ध्यानं सम दानं
तस्मात् ध्यानं समाचरेत
ध्यान के समान न तीर्थ है न ही यज्ञ है न ही दान। ध्यान ही सब कुछ है।
सब कोई रूठ जाएगा
सब कुछ छूट जाएगा
तो जगा लो इस रात्रि
हाँ इसी महाशिवरात्रि
मिल लो उस शिव से
जो न रूठेगा
जो न छूटेगा
जो मेरा था…..जो मेरा है….और…जो मेरा ही रहेगा
तुम कुछ भी न करो
बस बैठे रहो उसके ध्यान में
मेरा वादा है
वो आएगा
वो आएगा
वो आएगा
ज़रूर आएगा

तुम बस बैठे रहो
महफिल का रंग बदल जाएगा
मेरा शिवशंभु जब भी आएगा
तेरा जीवन भी चम चमा जाएगा…!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

इतना तो तय है……!!!!

December 22, 2019
Shanky❤Salty
इतना तो तय है
जब भी मेरी मौत आएगी
अपने के आँखों में आँसू दे कर ही जाएगी
माना की वो कुछ पल के लिए उदास हो जाएंगें
मेरी भोज में आ कर वो जी भर के खाएंगे
मैं कहता था
ना जाने क्यों ज़िंदगी मुझे से रूठी है
पर सच कहुं तो
मैं ही ज़िंदगी से रूठ बैठा हूँ
चंद सपने जो मेरे पूरे ना हो पाये
मैं अपनी ही प्यारी ज़िंदगी से युं ही हठ कर बैठा हूँ
खुद के सपने मैं पूरे करने
ना मैं आया था
खुशी के आँसू मैं बाँटने
ना मैं आया था
पर क्या मैं करूँ
एक ही तो दिल
जो तोड़ उसने दिया था
रोता-रोता मैं उसे जोड़ने अकेला बैठा हूँ

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

श्रीमद्भागवत गीता…..!!!!

December 8, 2019
Shanky❤Salty
शरीर कि मलिनता दूर करने के लिए
नित-प्रतिदिन नहाना जरूरी है
वैसी हि
ह्रदय कि मलिनता दूर करने के लिए
नित-प्रतिदिन “गीता” के ज्ञानरूपी
सागर में डुबकि लगाना जरूरी है
  • गीता केवल एक ग्रंथ या पुस्तक नहीं है अपितु जीवन जीने कि कला है।
  • गीता ऐसा अद्भुत ग्रंथ है कि थके, हारे, गिरे हुए को उठाता है, बिछड़े को मिलाता ह, भयभीत को निर्भय, निर्भय को नि:शंक, नि:शंक को निर्द्वन्द्व बनाकर नारायण से मिला के जीवन का उद्देश्य समझाता है।
  • विश्व की 578 भाषाओं में गीता का अनुवाद हो चुका है।
  • हर भाषा में कई चिन्तकों, विद्वानों और भक्तों ने मीमांसाएँ की हैं और अभी भी हो रहीं हैं, होती रहेंगी।
  • इस ग्रंथ में सब देशों, जातियों, पंथों के तमाम मनुष्यों के कल्याण की अलौकिक सामग्री भरी हुई है।
  • भोग, मोक्ष, निर्लेपता, निर्भयता आदि तमाम दिव्य गुणों का विकास करनेवाला यह गीताग्रंथ विश्व में अद्वितीय है।
  • स्वामी विवेकानंद जी तो श्रीमद्भगवत गीता को “माँ” कहा करते थे।
  • मदनमोहन मालवीय जी श्रीमद्भगवत गीता को “आत्मा कि औषधि” कहा करते थे।
  • श्रीमद्भगवत गीता किसी धर्म, जाती, समुदाय, मजहब का पुस्तक नहीं है अपितु यह संपूर्ण मानव जाती के लिए है।
  • श्रीमद्भगवत गीता वह ग्रंथ है जिसने युद्ध के मैदान में अर्जुन को योग कि कला सिखा थी।
  • श्रीमद्भगवत गीता वह ग्रंथ है जो हमें सिखाती है “सुख टिक नहीं सकता और दुःख मिट नहीं सकता”
  • मुझे लगता है कि गीता को हाथ में रखकर कसमें खाने से कुछ नहीं होगा अपितु गीता को हाथ में रखकर पढ़ना होगा।
  • ज़िंदगी कि एैसी कोई समस्या नहीं है जिसका समाधान श्रीमद्भगवत गीता में ना हो एैसा मेरे विश्वास है।
हम सब ईश्वर से प्रार्थना तो करते है

 

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः।

 

 

सर्वे सन्तु निरामयाः।

 

 

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु।

 

 

मा कश्चित् दुःख भाग्भवेत्॥

 

 

ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः॥

 

हिन्दी भावार्थ:

 

सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी का जीवन मंगलमय बनें और कोई भी दुःख का भागी न बने।

 

 

हे भगवन हमें ऐसा वर दो!

 

पर यह संभव तभी है जब श्रीमद्भगवत गीता को जीवन में अपनायेगें।
बस जीवन में एक बार पढ़कर देखो “मोहब्बत कि बरसात ना हो गईं तो कहना”

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

कुछ नया करते है….!!!!

October 27, 2019
Shanky❤Salty
घर और मन की साफ-सफाई हो गईं हो तो
चलो ना इस दीपावली कुछ नया करते हैं
रौशन गली-मोहल्ले, चौक-चौराहे तो होंगे ही
वक्त है अब दिल के दीप जलाए रखने का
ज़िंदगी कि कशमकस से थोड़ा वक्त निकालना होगा
अपनों के साथ वक्त बिताना होगा
लक्ष्मी की पूजा कर धन तो कमाना होगा
साथ ही सरस्वती की भी पूजा कर
धन को बुद्धिमता से सदुपयोग करना होगा
बुझ रही हो गर किसी के जीवनदीप तो
लौ खुशी की, बन ज्योति, आनंद की,
चलो उस लौ को अपने हथेलियां बढ़ाकर प्रज्वलित रखना होगा
हिंदू-मुस्लिम-सिख-ईसाई धर्म से उपर उठ
मानव धर्म को अपनाना होगा
चलो इस दीपावाली कुछ नया करते हैं

Written by:- Ashish Kumar
Thank you so much SG16 for supporting.
Posted in Uncategorized

अजीब है ये दुनिया……!!!!

June 20, 2019
Shanky❤Salty
देखो ना……!!!!
ये दुनिया कितनी अजीब है
ज़िंदगी भर मुझमें कमियां निकालेगी
फिर मरने के बाद कुछ दिन आँसू बहायेगी
और भोज में आ खाने कि कमियां निकालेगी

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

शुभ दीपावली….!!!!

November 7, 2018
Shanky❤Salty

प्रिय परिवारजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

इस दीपावली कम से कम एक ज़िन्दगी रौशन करने की कोशिश करें।

#दीपावली
#collab
#yqdidi #YourQuoteAndMine
Collaborating with YourQuote Didi

Follow my writings on https://www.yourquote.in/ashish05shanky