Posted in Uncategorized

अलविदा…..!!!!!

December 24, 2019
Shanky❤Salty
आज सिखा दिया है
ज़िंदगी ने मुझको
खुशियाँ टिक नहीं सकती
ग़म कि कतारे मिट नहीं सकती
भरी अश्कों से मैं
आप सब को अलविदा कहता हूँ
न चाहते हुए भी अब मैं विदा लेता हूँ
पता नहीं हम कब मिलेंगे
सच कहूँ तो
पता नहीं हम कब लिखेंगे

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

इतना तो तय है……!!!!

December 22, 2019
Shanky❤Salty
इतना तो तय है
जब भी मेरी मौत आएगी
अपने के आँखों में आँसू दे कर ही जाएगी
माना की वो कुछ पल के लिए उदास हो जाएंगें
मेरी भोज में आ कर वो जी भर के खाएंगे
मैं कहता था
ना जाने क्यों ज़िंदगी मुझे से रूठी है
पर सच कहुं तो
मैं ही ज़िंदगी से रूठ बैठा हूँ
चंद सपने जो मेरे पूरे ना हो पाये
मैं अपनी ही प्यारी ज़िंदगी से युं ही हठ कर बैठा हूँ
खुद के सपने मैं पूरे करने
ना मैं आया था
खुशी के आँसू मैं बाँटने
ना मैं आया था
पर क्या मैं करूँ
एक ही तो दिल
जो तोड़ उसने दिया था
रोता-रोता मैं उसे जोड़ने अकेला बैठा हूँ

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

देश के प्रति…..!!!!!

December 12, 2019
Shanky❤Salty
कर दिया है हमने भी मतदान
देश के प्रति
निभा दिया है हमने भी एक छोटा सा फर्ज अपना
है देखना अब मुझको
देश के प्रति
निभा पाती है आने वाली सरकार फर्ज अपना

Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

धुंधली यादें……!!!!

December 11, 2019
Shanky❤Salty
तुझे सोचने का मजा ही कुछ और है
तेरे ना होने की सजा मुझे मिलना अभी और है
तेरी बातें सुन कर सोने का मजा ही कुछ और है
तुझे याद कर रोने की सजा मुझे मिलना अभी और भी है
तेरी झूठी आस रखने का मजा ही कुछ और है
तुझे चाहने की सजा मुझे मिलना अभी और है
तेरी वफा का मजा ही कुछ और है
मेरा जिन्दा रह कर मरना अभी बाकी है
सच कहुं तो
मेरी बेवफाई की सजा अभी कुछ और है

Title credit:-SG16
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

श्रीमद्भागवत गीता…..!!!!

December 8, 2019
Shanky❤Salty
शरीर कि मलिनता दूर करने के लिए
नित-प्रतिदिन नहाना जरूरी है
वैसी हि
ह्रदय कि मलिनता दूर करने के लिए
नित-प्रतिदिन “गीता” के ज्ञानरूपी
सागर में डुबकि लगाना जरूरी है
  • गीता केवल एक ग्रंथ या पुस्तक नहीं है अपितु जीवन जीने कि कला है।
  • गीता ऐसा अद्भुत ग्रंथ है कि थके, हारे, गिरे हुए को उठाता है, बिछड़े को मिलाता ह, भयभीत को निर्भय, निर्भय को नि:शंक, नि:शंक को निर्द्वन्द्व बनाकर नारायण से मिला के जीवन का उद्देश्य समझाता है।
  • विश्व की 578 भाषाओं में गीता का अनुवाद हो चुका है।
  • हर भाषा में कई चिन्तकों, विद्वानों और भक्तों ने मीमांसाएँ की हैं और अभी भी हो रहीं हैं, होती रहेंगी।
  • इस ग्रंथ में सब देशों, जातियों, पंथों के तमाम मनुष्यों के कल्याण की अलौकिक सामग्री भरी हुई है।
  • भोग, मोक्ष, निर्लेपता, निर्भयता आदि तमाम दिव्य गुणों का विकास करनेवाला यह गीताग्रंथ विश्व में अद्वितीय है।
  • स्वामी विवेकानंद जी तो श्रीमद्भगवत गीता को “माँ” कहा करते थे।
  • मदनमोहन मालवीय जी श्रीमद्भगवत गीता को “आत्मा कि औषधि” कहा करते थे।
  • श्रीमद्भगवत गीता किसी धर्म, जाती, समुदाय, मजहब का पुस्तक नहीं है अपितु यह संपूर्ण मानव जाती के लिए है।
  • श्रीमद्भगवत गीता वह ग्रंथ है जिसने युद्ध के मैदान में अर्जुन को योग कि कला सिखा थी।
  • श्रीमद्भगवत गीता वह ग्रंथ है जो हमें सिखाती है “सुख टिक नहीं सकता और दुःख मिट नहीं सकता”
  • मुझे लगता है कि गीता को हाथ में रखकर कसमें खाने से कुछ नहीं होगा अपितु गीता को हाथ में रखकर पढ़ना होगा।
  • ज़िंदगी कि एैसी कोई समस्या नहीं है जिसका समाधान श्रीमद्भगवत गीता में ना हो एैसा मेरे विश्वास है।
हम सब ईश्वर से प्रार्थना तो करते है

 

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः।

 

 

सर्वे सन्तु निरामयाः।

 

 

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु।

 

 

मा कश्चित् दुःख भाग्भवेत्॥

 

 

ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः॥

 

हिन्दी भावार्थ:

 

सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी का जीवन मंगलमय बनें और कोई भी दुःख का भागी न बने।

 

 

हे भगवन हमें ऐसा वर दो!

 

पर यह संभव तभी है जब श्रीमद्भगवत गीता को जीवन में अपनायेगें।
बस जीवन में एक बार पढ़कर देखो “मोहब्बत कि बरसात ना हो गईं तो कहना”

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

One More Time…..!!!!

November 21, 2019
Shanky❤Salty
Do not give up
Even if you fail
Try one more time
Just one more
I’m sure
You will definitely get success
गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में
वो तिफ़्ल क्या गिरे जो घुटनों के बल चले

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

क्यों मैं निःशब्द हो जाता हूँ….!!!!

November 18, 2019
Shanky❤Salty
हम अजनबी थे ना….”बोलो ना हाँ”
हम जानते थे एक दूसरे को…..”बोलो ना नहीं”
फिर क्यों साथ चल दिये मेरे….???
एक ही ब्रान्च में थे इसलिए
या कोई स्वार्थ था इसलिए
या किसी ने कुछ कहा था इसलिए
है कोई जवाब
अच्छा छोड़ो ये सब
चलो कुछ और बता दो मुझे
भूख लगती थी मुझे तो तुम डाँटते क्यों थे
फिर रात को खाना खिलाने भी ले जाते थे
माना कि मैं एक-दो रोटी से ज्यादा नहीं खा पाता था क्योंकि मेरा पेट भर जाता था तुझे खाता देख
चाहे ठंडी हो या गर्मी मेरा ड्राइवर तू ही रहा करता था
हाँ और भी बेहतरीन ड्राइवर थे मेरे पास पर तू शायद ख़ास था क्योंकि तू मुझे अपनी पीठ पर सुलाया करता था
हम दोनों ही थे ना फोर्थ फ्लोर में जो सेमेस्टर के दिनों में बेफिक्र अपनी ही मस्ती में किताबों से दूर रहते थे
शायद अब तुम समझ गये होंगे मैं तुम्हारी ही बातें कर रहा हूँ
पर समझ कर क्या कर लोगे कुछ नहीं ना तो फिर चुप होकर आगे पढ़ते जाओ ना
याद है तुम्हें जब मेरे पेट में दर्द रहता था और मैं अस्पताल जाने में लापरवाही करता था तो तुम ही मुझे डाँट कर अस्पताल ले जाते थे
वो 6 बजे सुबह भी याद होगी ही तुम्हें जब तुमने मेरा पैर खींच बेड से नीचे उतार दिया था और स्कूटी की चाबी लेने नीचे भेजा था
अल्ट्रासाउंड टैस्ट में ले जाने के लिये
अगर नहीं भी याद तो कोई नहीं मुझे सब याद है तुम बस अब चुप होकर पढ़ते जाओ जो मैं लिख रहा हूँ
वो तुम ही थे ना जो मुझ से मिलने अस्पताल आये थे मेरे एक बार बुलाने पर
याद है ना मेरी मम्मी बोली थी की आज इतना ज़्यादा ख़ुश है तुमसे मिलकर
और
उठ कर बैठा है
तुम जब जाने लगे थे तो मैंने तुझे 👍 एैसा इशारा किया था जिसका मतलब तुम नहीं समझे थे कोई नहीं समझा दूँगा तुम आगे पढ़ते तो जाओ
तुम मेरे अस्पताल से छुट्टी वाले दिन भी आये थे ये बात मैं अपनी आखिरी साँस तक नहीं भूल सकता
अगर तुम भूल गये हो तो कल से बादाम खाया करो
शायद तुम ना होते तो मेरे पापा मम्मी की जान निकल जाती मुझे होटल तक ले जाने में तुमने जो मुझे गोद में लिया था भाई उसके लिये ना चाहते हुए भी तुम्हें दोनों हाथ जोड़ धन्यवाद कहता हूँ 🙏
और भी हज़ारों,लाखों पल आये थे जब तुम मेरे साथ खड़े थे या यूँ कहूँ तो तुम मुझे पास थामे थे
वक़्त पड़ने पर तुमने मुझे
पिता जैसी डाँट लगाई है पर तुम पिता तो नहीं हो मेरे
माँ जैसी प्रेम दिखाया है पर तुम माँ तो नहीं हो मेरी
भाई जैसा स्नेह किया है पर तुम भाई तो नहीं हो मेरे
सच कहूँ तो तुझ से कौन सा रिश्ता है नहीं जानता
माना की हम बचपन के दोस्त नहीं हैं पर हमारा बचपना अभी तक गया नहीं है
दोस्त कहता हूँ तुझे पर सच कहूँ तो तुम दोस्त भी नहीं हो मेरे
क्योंकि वक़्त-बे-वक़्त दोस्त भी साथ छोड़ देते हैं
कोई मुझे मिल्कीबार दे,दे या मुझे समौसे खिलाने की बात कर दे तो मैं उससे तुरंत ख़ुश हो जाता हूँ

पर तुझ से ये सब लेने की चाह नहीं है बस तू मुझे कुछ खाता नज़र आ जाये मेरे मुस्कुराने कि वज़ह बन जाती है
तूने कहा था ना सचिन गुरुरानी पे लिख लेकिन मुझे माफ़ करना
मैं उन यादों को छोड़ तुम पर बहुत कुछ लिखना चाहता हूंँ
पर ना जाने क्यों मैं नि:शब्द हो जाता हूँ

तुम अजनबी से कब हमनबी बन गये पता ही नहीं चला…!!
बस भाई बाक़ी फ़िर कभी 😅

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

ज़िंदगी की औकात…..!!!!

November 14, 2019
Shanky❤Salty
किसी की औकात बादशाहों जैसी दिखती
तो
किसी की औकात फकीरों जैसी दिखती
सच कहुं तो ज़िंदगी की असली औकात शमशानों में दिखती

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

50K Views….!!!!

November 9, 2019
Shanky❤Salty
I would like to take a moment and say thank you to all my viewers.

Today, my site has crossed a milestone of 50,000 views. Something I once thought I would never do. But it was not me, it was all of you guys that read my writings and hit the like buttons.

If I wouldn’t get your support guys, I could not have achieved this milestone. So we did it together. You guys deserve a round of applause.
Posted in Uncategorized

कुछ नया करते है….!!!!

October 27, 2019
Shanky❤Salty
घर और मन की साफ-सफाई हो गईं हो तो
चलो ना इस दीपावली कुछ नया करते हैं
रौशन गली-मोहल्ले, चौक-चौराहे तो होंगे ही
वक्त है अब दिल के दीप जलाए रखने का
ज़िंदगी कि कशमकस से थोड़ा वक्त निकालना होगा
अपनों के साथ वक्त बिताना होगा
लक्ष्मी की पूजा कर धन तो कमाना होगा
साथ ही सरस्वती की भी पूजा कर
धन को बुद्धिमता से सदुपयोग करना होगा
बुझ रही हो गर किसी के जीवनदीप तो
लौ खुशी की, बन ज्योति, आनंद की,
चलो उस लौ को अपने हथेलियां बढ़ाकर प्रज्वलित रखना होगा
हिंदू-मुस्लिम-सिख-ईसाई धर्म से उपर उठ
मानव धर्म को अपनाना होगा
चलो इस दीपावाली कुछ नया करते हैं

Written by:- Ashish Kumar
Thank you so much SG16 for supporting.
Posted in Uncategorized

इज्ज़त…..!!!!

October 19, 2019
Shanky❤Salty
ज़िस्म बेचा करती थी
इसलिए समाज में उसकी कोई इज्ज़त नहीं थी
क्योंकि वह “वैश्या” थी…!!
ज़िस्म खरीदा करता था
इसलिए समाज में उसकी बहुत इज्ज़त थी
क्योंकि वह मर्द था…!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

कद्र कहां……!!!!

October 9, 2019
Shanky❤Salty
थोड़े से ऑक्सीजन के बदले हम डॉक्टरों को हजारों रुपए दे देते हैं
लेकिन
पेड़ हमें जीवन भर ऑक्सीजन देते है बदले में हम उन्हें काट देते हैं
किसी ने सच ही कहा था
“कीमत” पैसे की ही होती है
मुफ्त की चीजों कि कद्र कहाँ…!!

Written by:- Sachin Gururani
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Published by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

मेरे शब्द……!!!!

October 7, 2019
Shanky❤Salty
माना कि मेरे शब्द अब लड़खड़ाते हैं
पहले वाली वो बात नहीं है मेरे शब्दों में
लेकिन मुझे यक़ीन है मेरे शब्दों पर
वक़्त-बे-वक़्त मेरे शब्द तुझे
रूलाते भी हैं
और
हंसाते भी हैं
हाँ मैंने कई बार
अपने शब्दों से
अपने ग़म को उकेरा है
कई बार ग़म छुपाया भी है
शायद तुम्हें भी मालूम होगा
इन ही शब्दों कि वज़ह से
हम एक-दूजे से दूर हैं
और साथ ही मज़बूर भी
ना जाने कब तक
मेरे शब्द साथ देंगे
ना जाने कहाँ तक
मेरे शब्द साथ देंगे
क्योंकि अपनी ज़िन्दगी में देखा
सिर्फ़ ज़रूरत पर ही साथ देते है लोग
लेकिन मुझे इतना यक़ीन है
कि मेरे मरणोंपरांत भी मेरे शब्द
कहीं-ना-कहीं अपनी छाप छोड़ जाएंगे….!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

ना जाने कैसे…..!!!!

September 18, 2019
Shanky❤Salty
सुनो ना…..!!!!
हाँ,हाँ तुमसे ही कह रहा हूँ
बस दो मिनट लगेंगे
सुन लो ना
फ़िर चले जाना ना
देखो बात एेसी है
कि अब कुछ अच्छा सा नहीं लगता है
एक दिल था ना
हाँ वही दिल
जिसको वक्त और हालात ने तोड़ दिया था
वो भी अब ठीक से काम नहीं कर रहा है
वक़्त-बे-वक़्त धड़कनें तेज़ होने लगती हैं
ना चाहते हुए भी डिप्रेशन दूर करने की गोलियाँ लेने पड़ती है
पर अब तो उन गोलियाँ ने भी मुझ पर अपना असर करना छोड़ा दिया है
ना जाने क्यों ज़िन्दगी मुझसे पल-पल रुठ जाती है
अब तुम आ ही गयी हो तो मुझे मनाने कि कोई युक्ती तो बता दो
थक सा गया हूँ इस ज़िन्दगी से
दिल करता है सब कुछ ख़त्म मैं कर दूँ
पर मैं कायर नहीं ना हूँ
मैं शांति से सोना चाहता हूँ अब
पर तुम तो अच्छे से जानती ही हो ना
नींद और मेरा कोई वास्ता नहीं है बिन दवा के
सुना था “दवा से ज़्यादा दुआ में असर होता है”
पर ज़िन्दगी में ना जाने क्यों बद्दुआ ही मिली
पर अब जो भी हो मुझे निश्चिंत होकर नारायण में सोना है
मैं जानता हूं वो वक़्त कभी लौट नहीं आयेगा
पर मुझे ये ज़रूर बता दो
वो यादें क्यों लौट आती है ???
चलो आती है तो आने दो पर जीने क्यों नहीं देती है ???
लगता है दो मिनट हो गये हैं
तुम्हें भी जल्दी होगी ना
अच्छा कोई नहीं फ़िर कभी
पर याद रखना हारा नहीं हूँ
अभी थक गया हूं सिर्फ़
जल्द ही आऊँगा
ग़म का ज़हर पीता जाऊँगा
और मुस्कराते हुए ज़िन्दगी को लिखता जाऊँगा…!!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

ना जाने कब…..!!!!

September 14, 2019
Shanky❤Salty
हज़ारों सवाल मन में लिए बैठा हूँ
पूछें तो पूछें किस से
सब अपने सवालों में उलझे हैं
वैसे तो मैं बुरा बन बैठा हूँ
क्योंकि मैंने सफाइयाँ देनी जो छोड़ दी हैं
ना जानें कब, कैसे, किस से मेरे सवाल हल होंगे
ना जानें कब हम रोते हुए ख़्वाबों को सच करेंगे
और
ना जाने कब हम मुस्कुराकर ज़िन्दगी को जियेंगे…!!

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Wonderful Writer Radha Agarwal
Posted in Uncategorized

समझ में ना आया…..!!!!

August 25, 2019
Shanky❤Salty
कल रात वो आ ही गईं थी
मुझको साथ ले जाने वाली ही थी
दवा ने भी अपना असर है छोड़ा था
दर्द ने जो साथ पकड़ा था
काफी दिनों के बाद मेरे दिल में दर्द उठा था
बाहर पेड़-पौधे बारिश में भीग रहे थे
इधर मैं पसीने से भीगा हुआ था
नींद तो एैसी रुठी थी
दवा लेने के बाद भी मुझसे दुर बैठी थी
हर कोई श्री कृष्ण के जन्म की तैयारियाँ कर रहा था
मैं लेट अपनी धड़कनों को गीन रहा था
पर माँ वो तुम ही थी ना
जिसने श्रीकृष्ण की पूजा छोड़
मुझे गोद में सुलाया था
मेरे दिल पर हाथ रख
“गोविंद हरे गोपाल हरे जय-जय प्रभु दिन दयाल हरे”
गाकर मेरे दर्द को दूर कर रही थी
माँ तेरे थपकियों ने ही मुझको सुलाया था
कल तक चलना तो दूर मुँह से आवाज तक नहीं ले पा रहा था
पर माँ तेरे प्रेम और वात्सल्य में जादू है जादू
देखो ना आज बैठ ये चार पंक्तियाँ लिख रहा हूँ।
ये कैसा है जादू समझ में ना आया
तेरे प्यार ने हमको जीना सिखाया

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

मेरे कागज सुखे खेत…..!!!!

August 21, 2019
Shanky❤Salty
सुना है शब्द सीमित है
पर निश्चित ही तुम असीमित हो
मेरे कागज सूखे खेत की तरह होते हैं
शब्दों की बारिश कर लहलहाती खेत बना देती हो आप
आप कितने भी व्यस्त रहते हो
भूलकर भी मुझको ना नहीं कहते हो
आप सब कुछ मेरे बारे में जानते हे
फिर भी हम एक दूजे से अनजान हो बैठे हैं
चाय का शौक नहीं रखते हैं
पर जब पागल होते हैं
तो भर दो ग्लास चाय पी कर मुझको हसाते हैं
सच कहुं तो आप ना होते तो
मैं हर रोज नहीं लिख पाता एक नई कहानियाँ
और ना ही हो पाती मुझसे कविताओं की खेती
हर वक्त ये मरघट पर है लिखती
पता नहीं इतना मुझको क्यों है भाती
मेरी हर कविता को चंद मिनटों में सुंदर है बनाती
ये हर कोई से सताई है जाती
क्या कहूं मैं ये मासूम सी है लड़की
हर गलती पर मुँह है फुलाती
जब जब कागज पर शब्दों को है उकेरती
अपने आँसुओं का दर्द बयान है कराती
वैसे है तो ये जिद्दी निधि पर जब तक इसे जानुंगा समझुंगा तब तक ये दुनिया को अलविदा कह चुंकी होगीं
तेरे शब्दों में इतनी ताकत है कि तुम मुर्दें में भी जान ला सकती हो
धोखा तुझे जो दे तू उसे जीते जी मुर्दा भी बना सकती है
धन्य है वो माता- पिता जिसने तुझे जन्म दे संस्कारों का तेज भरा है
क्या कहुं क्या लिखुं शब्द तो सीमित है पर निश्चित ही तुम असीमित हो

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in Uncategorized

है कोई…….!!!!!

July 13, 2019
Shanky❤Salty
लोग अल्फाज चुरा लेते हैं
तुम नींद चुरा लेती हो
ऐ खुदा बता मुझे
इस जहां में कौन है जो मेरा दर्द चुरा ले जाये

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

धर्म और राजनीति…..!!!!

July 2, 2019
Shanky❤Salty
हिंदु मुस्लिम के नाम पर दंगें कराते हैं
एक दुजे से नफरत कर खुन बहाते हैं
कभी तो दो पल निकाल गीता-कुरान पढ़ना
सब में राम-रहिम है बसते
इस्लाम खतरे में है कह जेहाद करते हैं
हिंदू खतरे में है कह तलवार निकालते हैं
जनाब कुछ तो समझो,
सियासत की कुर्सी खतरे में है
आगे आप देख लो…..
मुझसे ज्यादा समझदार लगते हो……

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Posted in #birthday, Uncategorized

Dear Manager…….!!!!

June 29, 2019
Shanky❤️Salty
Dear Manager,
Do you know you are a blessing for your friend’s group? I believe that person’s can give their time as a most precious gift, as you can never take it back and you can also gift your time to them. You’re man, who simply make everything brighter. A simple day can become special because of you like a birthday party OR a trip OR a night out OR a technical event OR Uddharsha OR any function that you manage. You always make ordinary moments into extraordinary, But I always tease you. Dear there are lots of memories that we’ve spent in our college life. As well as chugli’s. In our group you’re an only vegetarian guy who eat Egg-roll😂

You know that we surely have different interest’s and point of view because we’re not blood related but we’re brothers from another mother. There are few misunderstanding & dull moment with us, but we never judge each other. We left it because we know that in rose there are few thorns are available.
You deal with my immaturity. I’m very hard to deal with people & times, but you never left me. You always try to understand and love me behind my flaws.

Brother, I’m not always present to celebrate with you the good times, knowing that I’m always happy and proud of you. And for the bad times, my shoulder is always ready for your tears. But don’t be tense. Bad times never come in front of you.
I’m not even sure if I deserve your trust. You trust me with a lot of things in your life. And I promise not to do anything stupid that will break your trust.

You’re very strong, independent, caring and selfless. Specially a good manager OR leader. You know that this letter wouldn’t end. Because there’s surely a million memories and reasons I would want to write and thank you for, but words are not enough.
Thank you sooooooo much Rahul Kr. Singh for being in my life & Wish you a Very Happy Birthday.

जिस तरह मैं इस भीड़ में खो गया हूँ ना
बस उसी तरह तेरे चेहरे के पीछे छुपी हुईं उदासी भी कहीं खो जाए
और
मेरा भाई दिल से खुश हो जाए यही दुआ हम करते है

Written by:- Ashish Kumar
Posted in Uncategorized

फर्क…….!!!!

May 20, 2019
Shanky❤Salty
जब होती हो तुम उदास
तब खेलती हो तुम एक खेल
जब होता मैं उदास
तब खेलता मैं भी एक खेल
बस फर्क इतना है की
तुम खेलती हो खेल जज़्बातों से
और मैं खेलता खेल शब्दों से

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- A Great Writer Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

ज्ञानरूपी माँ…….!!!!

May 12, 2019
Shanky❤Salty
न्यायालय में गीता की कसमें खिलाई जाती
किन्तु कभी गीता पढ़ाई नहीं जाती
कसमें खाने के बाद भी झूठ बोल सकते हो
परन्तु मेरा विश्वास है निरंतर गीता पढ़ने वाला झूठ नहीं बोल सकता
मैं पुनः कहता हूँ गीता किसी देश, धर्म, जाती, पंथ, समुदाय का नहीं है बल्कि मानव मात्र के लिए है। गीता की कसमें खा सच को पचाना उद्देश्य नहीं है। गीता तो थके, हारे, गिरे हुए को उठाता है बिछड़े को मिलाता है भयभीत को निर्भय, निर्भय को नि:शंक
नि:शंक को निर्द्वन्द्व बनाकर जीवन जीने कि कला सिखाता है।
माँ बच्चों को निःस्वार्थ भाव से प्रेम करती है उसी तरह मातृ रूपेण गीता भी ज्ञान देकर जीवन का सर्वांगीण विकास करती है।
माँ कि गोद में जिस तरह कि शांति मिलती है ठीक उसी तरह कि शांति गीता के ज्ञान में है
विश्वास नहीं होता ना……..तो सिर्फ एक बार पढ़ कर देखो

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

There was a girl….!!!!

March 8, 2018
Shanky❤Salty
For himself
Bigger problem were
Standing up & standing
There was a girl,
Girl was a daughter, daughter was a sister, sister was a girlfriend.
Mother was a wife, wife was a daughter-in-law.
And do not even know what as.
But she was not just she
By making the folds of cloths like that
She shut himself down
Inside the door
Like cleaning the house
She’ll broom my houses
Like a cooker sheet
Answer my silence
Like stolen money that
Mocking she
That the whole house of mine is mine
But her own privacy closed in an angle
Not seen anywhere on the ground
When-when she tired
Find herself…..she found………she have been
Bad daughter, bad sister, bad girlfriend.
Bad wife, bad mother, bad daughter-in-law.
Do not know even know what
What are all doors closed
Who is stoping her
Inwardly
Is her privacy so expensive
That she can not buy
Own freedom
By herself
Posted in Uncategorized

हे राम जी…..!!!!!

April 12, 2019
Shanky❤Salty
सुनो ना राम जी,
मुझे एक प्यारी सी बात आपसे है कहनी
ज्यादा वक्त लेंगे ना हम ,जरा सी बात है बतलानी
वैसे तो आप सब कुछ जानते हो
अपनी हि जन्म भूमि पर टेन्ट में जो रहते हो
चुनावों का मौसम है आया
सत्ता का लालच है भाया
क्या कहूँ मैं आपसे हम भी तड़पे है कितना
आपके बिन तड़पे थे भरत जी जितना
कैसे बताए हम, 14 वर्षों तक बिछड़े भरत जी
कैसे बताए, हम 134 वर्षों से तड़पे राम जी
एक दिल था, बिन मोल वो तुमको दिया
बस कर दिल में, कर अनमोल तुमने दिया
क्या बतलाऊँ, क्या जताऊँ, क्या समझाऊँ
कैसे पढ़ू, कैसे लिखुं, कैसे गाऊँ
विरह के गीत मैं
पास होकर भी दूर लगते हो
सुनते तो आप हो, कहते कुछ क्यों नहीं
मंदिर वही बनाएँगे
मंदिर हम ही बनाएँगे
पर तारीख नहीं बतलाएँगे
गर तारीख बतलाएँगे
तो सियासत कि रोटी किस पे सकेंगे
अटल, अशोक जैसे हजारों राम भक्त आए
आँखों में भव्य मंदिर राम का सपना लिए
आँखें बंद कर राम नाम सत्य है की गुंज के साथ चल दिये
छप्पन इंच का सीना भी सत्ता में सिमट गया
पप्पू भी राम भक्त कहलाने कि होड़ में दौड़ गया
कसम हम राम की खाते हैं
भव्य राम मंदिर हम क्यों नहीं बनाते हैं
मीठी निगाहों से देखेंगे आँखें बंद करने से पहले
दिल में बसाएगें आपको धड़कन रूकने से पहले
रामायण में सिखया आपने खुद से दूर ना रहना
फिर क्यों चल दिये छोड़ मुझको यहां कोई ना अपना
राम जी बोलो ना कुछ धैर्य टूटता है अपना
भव्य राम मंदिर के सिवा कुछ नहीं है सपना

Written by:- Ashish Kumar
Modified by:- Ziddy Nidhi
Published by:- Anonymous
Posted in Uncategorized

याद आऊँगा…….!!!!!

March 16, 2019
Shanky❤Salty
सुनो ना……!!!!!!
गुस्सा मत होना कभी
मेरी बातो और मेरी हरकतों से दोस्तों
क्योंकि
इन्ही हरकतों की वजह से
मैं तुम सबको हमेशा याद आऊँगा
Read my thoughts on YourQuote Instagram
Posted in Uncategorized

आख़िर क्यों….!!!!

November 4, 2018
Shanky❤Salty

आख़िर क्यों

अपने सवालों के जवाब चाहियें तो सवाल कीजिये।
#shankysalty #army #abortion
#आख़िरक्यों
#collab
#yqdidi #YourQuoteAndMine
Collaborating with YourQuote Didi

Read my thoughts on YourQuote app at https://www.yourquote.in/ashish-kumar-oa1t/quotes/lddkiyon-ko-kokh-men-maarte-hai-aakhir-kyun-senaa-ke-shaury-jm2qs

Posted in Uncategorized

आजादी का पर्व……!!!!

August 15, 2018
Shanky❤Salty

काफी दिनों के बाद मैं आज सुबह जल्दी उठा
क्युकिं पापा को आज ऑफिस जल्दी जाना था
घर से बाहर निकला दूध लाने को
तो थोड़ा अचम्भित रह गया

सड़के साफ सुथरी नजर आ रही थी
हर दुकान तिरंगे से सजा हुआ था
हर गाड़ी पे तिरंगा लगा हुआ था
छोटे छोटे बच्चे हाथों में तिरंगा लिए स्कूल जा रहे थे

तभी मेरे फोन पे एक मेसेज आता है
सुप्रभात!!!!! हैप्पी इंडिपेंडेंस हे!!!!!

और मुझे ज़ोर से हँसी आती है
क्युकिं आज वही आजादी का पर्व है जब
लाल किले से कोई पगड़ी वाला
आपना मौन व्रत तोड़ेगा
और देखकर भाषण पढ़ेगा

या
कोई छप्पन इंच सिने वाल
नई-नई योजनाएँ लाएगा, सरकार कि उपलब्धियाँ गिनाएगा

आज बड़ी-बड़ी दुकानों में
बड़े-बड़े अॉफर मिलेंगे
पर हर चौराहे पे एक गरीब बच्चा
फटे-पुराने कपड़े पहने
तिरंगा बेचते जरूर मिलेगा
और कुछ वाहियात इंसान वहाँ देखने को भी मिलेगे
जो उन बच्चों से तिरंगे लेते वक्त मोल-भाव करते नजर आएँगे

पूरे देश में सुबह से शाम तक
हर जगह आजादी का पर्व मनाया जाएगा
सोशल मिडिया भी हर जगह तिरंगें के रंग में डूबा नजर आएगा
फिर रात होते-होते सब खत्म हो जाएगा

अगले दिन फिर सड़के गंदी ही मिलेगी
देश का झंडा कहीं ना कहीं गिरा हुआ जरूर मिलेगा
पगड़ी वाले का मौन व्रत फिर से शुरू होगा
छप्पन इंच का सिना फिर सिकुड़ेगा

क्युकिं आजादी का पर्व जो खत्म हो गया है
भ्रष्टाचार कर लोग आपनी जेबें गरम करेंगे
लड़कीयों को छेड़ कर गुंडें-मवाली आपनी आँखें सेका करेंगे
बलात्कार और रेप कर आपनी हैवानीयत का प्रदर्शन करेंगें
जाती और धर्म के नाम पर दंगा कर नंगा नाच करेंगे
और जो कुछ भी बचा हो वो सब हम करेंगे
क्युकिं आजादी का पर्व जो खत्म हो गया है

देश कि हालाता बहुत अजीब सी हो गई है
हर गली में एक रोता हुआ आशिक जरूर मिलेगा
हर गली में एक इंजीनियर जरूर मिलेगा
हर गली में एक डॉक्टर जरूर मिलेगा
पर शायद ही एक एैसा इंसान मिलेगा जो गर्व से सेना को या देश को समर्पित होता नज़र आएगा
लेकिन हर गली में देश को बर्बाद करने वाली एक सोच जरूर मिलेगी
जो कभी भगवे रंग से
तो कभी हरे रंग से
तो कभी सफेद रंग से
नफरत करती नजर आएँगी

पर उन छोटी सोच वालों को कौन समझाए
कि जिस रंगों से उन्हें नफरत है
अगर वो सभी रंगों को जोड़ दिया जाए
तो वह भारत देश का झंडा “तिरंगा” बन जाता है
और वह बिन हवा के तिरंगा आज भी लहरा रहा है
क्युकिं सेना का जवान और खेत का किसान
बिन बेईमानी जी रहा है

सोच अच्छी हो और देश के लिए कुछ करने के लिए आगे बढ़ो तो
कुछ एैसे अधिकारी सामने आ ही जाते है
जो कहते है “ये सब से तो देश को फायदा होगा पर हमारा क्या फायदा”

Continue reading “आजादी का पर्व……!!!!”

Posted in Uncategorized

भारतीय सेना…..!!!

July 12, 2018
Shanky❤Salty

Mr. Adwitiya Pradhan is our Future Army Officer.

सरहद कि लड़ाई को कोई क्या जाने
यहाँ तो लोग ‘काउंटर स्ट्राईक’ और ‘मिनी मिलिशिया’ में एक दूसरे पे अटैक करने में लगें है।

बिन हवा के तिरंगा आज भी लहरा रहे है
क्युकिं सेना का जवान और खेत का किसान
बिन बेईमानी जी रहे है

आग सी गर्मी
बर्फ सी सर्दी
हो गए नतमस्तक
जब पहने देश के जवान वर्दी

लाशों का शिकार नहीं करता
पीठ पर वार नहीं करता
घुस कर सीने पे मारता हुं
सरहद कि रक्षा करता हुं

देश कि बोली लगाई देशद्रोहीयों नें
साक्ष्य माँगे सेना के शौर्य पे
मनोबल तोड़ते
सियासत कि रोटी के लिए

छप्पन इंच सिना भी सत्ता में सिमट गया
हम कड़ी निंदा करते है
और
गर्व है हमें इनकी सहादत पर
इनका नेता कह गया

जो देश के दुश्मनों को धुल चटाता है
जो हमें रातों को चैन कि निंद सुलाता है
ये हमारी सेना का शौर्य बल ही है
जो हमें अभिमान कराता है एैसे वीरों पर

युद्ध का लाल रंग
इन्हें कुछ ज्यादा पसंद आ गया
सरहद पर तिरंगा
कुछ उचा लहरा गया

जवानों ने अपनों का सुख खोया
पर करोड़ों देशवासियों का प्यार और दुआ पाया

हम इस जिंदगी को जहन्नुम कहते
रोते-रोते जिंदगी काट रहे
जरा देखो तो मेरे प्यारे जवानो को
हसते-हसते माँ भारती के लिए शहीद हो रहे

नमन है उस माँ की परवरिश को
जिसने उस औलाद को जन्म दिया
जो छोड़ गया उस माँ को
भारत माँ के लिए

बहुत खुब फरमाया था
सेना के एक अफसर ने

कुछ तो बात है मेरे भारत देश कि मिट्टी में
जो सरहद पार कर आते है यहाँ दफन होने

Image credit SG16