Posted in Uncategorized

स्त्री-मन……!!!!

स्त्री-मन

Shanky❤Salty

पुस्तक स्त्री-मन की समीक्षा।

स्त्रीमन एक कविता संग्रह है, जो स्त्रीयों के विचारों को दर्शा रही है। इसमें सभी उम्र और वर्ग की औरतों की सोच को ध्यान में रखा गया है।

इस किताब की यह बात अच्छी है की इसमें औरतों की सभी तरह की भावनाओं को प्रस्तुत करने की कोशिश की गयी है जैसे चिंता, बंधन, प्रेम, दुखः, महत्वकांक्षा, जोश और समाजिक सोच का उनपर असर। कुछ कविताएँ तो ऐसी भी हैं जिनको पढ़ कर सब दृश्य
चलचित्र की तरह आंखों के सामने चलता अनुभव होता है। ऐसी कुछ कविताओं में मेरी पसंदीदा हैं- स्त्री-मन, वैश्या और बोझ। पर इस पुस्तक में मुझे सबसे अच्छी वो कुछ कविताएँ लगीं जो किसी भी महिला को जोश से भर देने के लिए काफी हैं, जैसे- तू चलती रह, नारी हूँ आज की हूँ, वो योधा है। इस पुस्तक में माँ और बच्चे के रिश्ते पर भी कुछ एक कविताएँ हैं। और बहुत सारी ऐसी कविताएँ भी हैं औरतों के घुटन और सामाजिक और पारिवारिक बंधन को दर्शा रहीं हैं जैसे- कभी बेचारी, रूह मेरी, चमकता आकाश, असमानता। कुछ कविताएँ प्रेम विरह पर भी हैं जिनमें मुझे सबसे अच्छी लगी- मैं अजीज नहीं।

मेरी तरफ से यह एक बेहद असाधारण एंव बेहतरीन कविता संग्रह है जो अपने पुस्तक शीर्षक को बहुत अच्छे तरीके से सार्थक करती है।

इसलिए मैं अपनी रेटिंग इस पुस्तक के लिए 5 star देना चाहूँगा।

उम्मीद है मेरी तरह बाकी पाठकों को भी यह किताब पसंद आयेंगी और मेरी यह समीक्षा उन्हें सही मार्गदर्शन देंगीं।

और सभी से अनुरोध भी करता हूँ कि किताब को एक बार जरूर पढ़ें।

किताब पढ़ने के लिए click here
किताब खरीदने के लिए click here

Author:

I am Ashish Kumar. I am known as Shanky. I was born and brought up in Ramgarh, Jharkhand. I have studied Electronics and Communication Engineering. I have written 10 books. I have come to know so much of my life that life makes me cry as much as death. Have you heard that this world laughs when no one has anything, if someone has everything, this world is longing for what I have, this world. Whatever I am, I belonged to my beloved Mahadev. What should I say about myself? Gradually you will know everything.

46 thoughts on “स्त्री-मन……!!!!

  1. Thank you so much Ashish for such amazing review of my book. This review have just increased the value of my book million times more. I am glad that great writer like you have appreciated my creation in this manner. Thanks a lot 🤗🤗🙏🙏

    Liked by 1 person

    1. PocketFM a fraud app😣
      Thode se paise de k hmari story le k usko apna naam de deti hai😏
      I’ll publish your book😎
      Itne logo ka hua h to aapka v ho jayega. Bs Naath ji ki poem 1st mei likh dijeyega😊

      Liked by 1 person

      1. Ohh! Really, thank you for telling me. But, main half hi story likh payi. My readers were asking for more. I feel bad for them. Vaise ye readers real hote h ya ye khud hi comment krte h.
        Ohh sorry! 😅 point pe aati hu. That’s really a good news for me. Thank you so much😊
        Of course, mere bhole baba sbse pehle. 😊🙏
        Har har mahadev😊🙏🙏🙏

        Liked by 1 person

        1. Yes ek baar unlogo ne 7k diya tha 1st prize or saari achi story le li. Nxt time 5k diya 2nd prize or fir saari achi story le li but aaj tk publish ni kiya😞 + apne RJ ko v wo pay ni krte hai. Only advertisement or promotion.
          Tb se pocket fm ignore😤

          Yes, aap likhye achi achi poem then I’ll publish your beautiful book ✨✨✨

          Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.