Posted in Uncategorized

बिन बुलाए…….!!!!

July 20, 2021

Shanky❤Salty
बिन बुलाए आ ही जाती है वो
हमें पता नहीं उसके वक्त का
पर पता है उसे सही वक्त का
हजारों मिन्नतें कर लो
लाख जतन कर लो
वो आएगी
ना समेटने का वक्त देगी
ना पुछने का वक्त देगी
बस कर्मों का हिसाब देगी
क्यों ना तु धन लाख कमाया है
सुना है देश-विदेश का वैद्य तु बुलाया है
पर हकीकत में कुछ भी काम ना आया है
जब दरवाजे पर दस्तक उसका आया है
हाँ वही
सही समझे
मौत

Author:

I am Ashish Kumar. I am known as Shanky. I was born and brought up in Ramgarh, Jharkhand. I have studied Electronics and Communication Engineering. I have written 6 books. I have come to know so much of my life that life makes me cry as much as death. Have you heard that this world laughs when no one has anything, if someone has everything, this world is longing for what I have, this world. Whatever I am, I belonged to my beloved Mahadev. What should I say about myself? Gradually you will know everything.

58 thoughts on “बिन बुलाए…….!!!!

  1. Mere Bhai, bahut bahut Pranam aapko. Kidarse milte hai itni ache sache soch. It’s just awesome 👌 no words last lines just touched my heart. I was just thinking 🤔 wo kon hai?? Ayegi matlab kon hai wo ladki ?? At the end twist is just the best fact bro no money no status no one n nothing can stop her from coming. Be blessed n take care ❤ 🙏

    Liked by 3 people

    1. Pranam or mujhe🙈🙈
      Mai bhuat chotaa hu aase didi😂
      Btw, khushi rheye, khoob khaeye-pijeye or aage badhete rheye😛
      Mai acha likhta hu na didi😎
      Ye sb possible hai sirf-or-sirf aap sb ki blessings or Ram ji ki kripa se🤗😇

      Liked by 2 people

      1. Ha bro ko Pranam heartfully, chota to bi respect respect ho hota hai. You really deserve it bro. Bahut bahut acha likhte ho aap 😇✌my blessings n support always but God’s blessings are more than anyone or anything. You are truly blessed with great knowledge 🙏

        Liked by 1 person

  2. जो इस संसार में आया है उसे एक ना एक दिन जाना ही है कहावत भी है कि
    आया है सो जायेगा राजा रंक फकीर।
    एक सिंहासन चढ़ि चले, एक बाँधे ज़ंजीर।।
    सबका मूल ये कि हम अपने आज को कितना अच्छा बनाते है।

    Liked by 2 people

  3. जिसका आना निश्चित,
    उसके बारे में क्या सोचना?
    पर कब आयेगी?
    ये अनिश्चित,
    जिसे बदला न जा सकता,
    और टाला भी न जा सके,
    उसके बारे में सिर क्या खपाना?
    हम कहाँ से आये?
    और कहाँ जायेंगे?
    सब कुछ अज्ञात …।

    तो क्यों न बात करें जो है ज्ञात 🤪।
    आने और जाने के बीच के बीच
    कलकल जीवन सरिता बहती,
    इसी नदिया में दुःख-सुख की नैया तिरती,
    चुनाव हमारा हम किस नैया के लेकर निकले,
    बहना तो है जब तक जीवन है,
    चाहे कलरव हंस की तरह करते,
    या फिर दुःख की नदियाँ में डूबते-उतराते,
    इसलिए जीवन है जब तक,
    हँसो और हँसाओ,
    कुछ कर जाओ,
    कुछ दुनिया को दे जाओ,
    शून्य में खोने के बाद,
    जब नाम आये,
    तो लोगों के होंठों पर मुस्कान तिर जाये🤪
    कुछ ऐसा कर जाये,
    यही जीवन है!
    जीवन जब तब है जीवन्त रहें हम।
    धन्यवाद ।

    Liked by 1 person

    1. मरेंगे तो सीना चौड़ा करके, इतना तय है।
      शरीर तो उम्र के साथ बुढ़ा होता ही जाता है, जो बचता है, वो है- जीने का जज्बा। 🤗❤️

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.