Posted in Uncategorized

मेरी अंतिम यात्रा……!!!!

April 4, 2019
Shanky❤Salty
मैं लेटा हुआ था
बर्फ के बिस्तर पर
जैसे जैसे बर्फ पिघल रहा था
अपने के आँखों से आँसू निकल रहा था
मिलने को हर कोई बेताब था
या राम नाम के नारे लगाने को बेताब था
हर कोई भरी आँखों से
मेरी अच्छाई गिन रहे थे
पर ये सब से बेफिक्र
मैं निश्चिंत हो लेटा था
मैं अक्सर दूसरों को सहारा देनें कि चाह रखता था
पर आज खुद चार कंधों के सहारे लेटा था
मेरी आँखें बंद रहेंगी
पर हर एक को मैं देखूंगा
जो आग मेरे सिने में जल रही थी
वह आग पूरे शरीर में लगने वाली थी
व्यर्थ कि चिंता में मैं हड्डी हो गया था
वह हड्डी भी चिता पर लेट राख बनने वाला था
मेरी अस्थीयों को तुम अपने आँसुओं से गीली कर गंगा में विस्रजीत कर देना। जीते जी पुण्य तो ना अर्जित ना कर सका। तुम मेरी मृत्यु के बाद अपना फर्ज पुरा कर देना।
मेरी प्रियतम भी किसी कोने में खड़े हो अपने आँसू
पोछ मुझसे लिपटने कि इच्छा मन में ला रही होगी
पर अब जिस्म से लिपट कर क्या करोगी……..रूह तो निकल गईं……..अब पल भर में जिस्म भी राख बन जाएगी…….और
मेरी अंतिम यात्रा कि कहानी राम नाम के साथ थम जाएगी।
चलोगें ना तुम सब मेरी अंतिम यात्रा में
एक अद्भुत लेखिका ज़िद्दी निधि जिसे हम जब तक समझेंगे, तब तक ये दुनिया से अलविदा कह चुकी होंगी। मेरे लेख में सुझाव देने के लिए आपका ह्रदय से धन्यवाद🙏
Read my thoughts on YourQuote Instagram

Author:

I am Ashish Kumar. I am known as Shanky. I was born and brought up in Ramgarh, Jharkhand. I have studied Electronics and Communication Engineering. I have written 6 books. I have come to know so much of my life that life makes me cry as much as death. Have you heard that this world laughs when no one has anything, if someone has everything, this world is longing for what I have, this world. Whatever I am, I belonged to my beloved Mahadev. What should I say about myself? Gradually you will know everything.

35 thoughts on “मेरी अंतिम यात्रा……!!!!

    1. हाँ मुट्ठी बंद कर यात्रा का अंत करूँगा…..फिर मुट्ठी खोल यात्रा का शुरूआत करूँगा

      Liked by 2 people

  1. जिस सत्य को आपने बयान किया है …..बहुत ही अच्छा है….आप को शुभकामनाएं लिखते रहिये…. Tukaram

    Liked by 2 people

  2. Maut ek sachchayee hai….usey koyee taal nahi sakta …….
    aur jab maut hamen apne sang le jaayegi phir hamen kya matlab kaun ro rahaa hai kaun lipatna chahta hai ya kaun kandha de raha hai…….ye sharir ek duje se milne ka madhyam hai ek computer screen ki tarah …….jisko hamare shari ka sukh hoga nasib men wo ley jayega……
    phir bhi dil men ek kasak rahegi…..

    hamen samajhnewalon ne shayad der kar di,
    bahut khushiyan sanjoye they ham bhi
    magar khata kya huyee ki jiwan men andher kar di.

    Liked by 2 people

    1. Joo v naraazgii hai mere apnoo ki mujh se….wo naarazgii dur krr….mujhe isii haal mei apna le…..nii to ek na ek din sbko naraazgii bhul Raam Naam k Naaroo k sath meriii pass aana hii hoga

      Liked by 2 people

      1. Agar koyee apna hai tabhi narajagi hai ……gair ko naraaj hone ki jarurat kya……agar koyee naaraaj hai to nischit hi wo apna hai……..

        kabhi patjhad kabhi vashant,
        aisaa hi jeevan ka rang.

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.