Posted in Uncategorized

फर्क इतना है…….!!!!!!

February 24, 2019
Shanky❤Salty
हमने एक-दुजे को नहीं छोड़ा
बस फर्क इतना है
तुमने नफरत करना नहीं छोड़ा
हमने मोहब्बत करना नहीं छोड़ा
Read my thoughts on YourQuote Instagram Mirakee

Author:

I am Ashish Kumar. I am known as Shanky. I was born and brought up in Ramgarh, Jharkhand. I have studied Electronics and Communication Engineering. I have written 6 books. I have come to know so much of my life that life makes me cry as much as death. Have you heard that this world laughs when no one has anything, if someone has everything, this world is longing for what I have, this world. Whatever I am, I belonged to my beloved Mahadev. What should I say about myself? Gradually you will know everything.

55 thoughts on “फर्क इतना है…….!!!!!!

      1. It’s always my pleasure. 😃
        I am doing really fine. I have recovered fast. And now, I am back to normal life. Grateful for your concern ! 😊😊

        Liked by 1 person

  1. चलो उन्हें भुलाने की बात करते हैं,
    खुद को बहलाने की बात करते हैं,
    जिनकी खुशबू बसी है साँसों में,
    चलो उसे मिटाने की बात करते हैं।

    Liked by 2 people

      1. आपकी पंक्तियाँ बहुत कुछ कहती है ।।।।।
        हमारी पंक्तियाँ अनसुलझी सी लगती है।।।
        कुछ और इसमें जोड़ते हैं शायद कुछ हम भी कह पाएँ—-

        चलो उन्हें भुलाने की बात करते हैं,
        खुद को बहलाने की बात करते हैं,
        जिनकी खुशबू बसी है साँसों में,
        चलो उसे मिटाने की बात करते हैं।
        वे अडिग अब भी अपनी राहों पर,
        हम बिखर जाएँ ,है उनकी ख्वाबों में,
        फूल हारे बिछा के हमने अबतक,
        चलो अँगारे बिछाने की बात करते हैं,
        चलो खुद को बहलाने की बात करते हैं।
        उनकी दुनियाँ भी कल हमारी थी,
        जान से वो जमीं भी प्यारी थी,
        संग रहकर के छल किया उसने,
        बन के भ्राता जहर दिया उसने,
        जो रुलाने की बात करते हैं,
        उन्हें सबक सिखाने की बात करते हैं,
        चलो खुद को बहलाने की बात करते हैं।
        प्रेम करना हमारी कमजोरी,
        उसने नफरत कभी नहीं छोड़ी,
        सोच थी अब मिलेंगे राहों में,
        प्रेम की धुन सुनेंगे कानों में,
        जिसने सब ख्वाब मेरा तोड़ा है,
        जिसके दिल में न प्रेम थोड़ा है,
        उससे हर रिस्ते मिटाने की बात करते हैं,
        चलो खुद को बहलाने की बात करते हैं।
        ये बहलाने की बातें कहीं झूठी ना हो जाए,
        प्रेम शेष दिल में वो आहुति ना बन जाए,
        यहाँ भी अपने हैं वहाँ भी अपने हैं
        ये सोच दिल की दिल में कहीं दब के ना रह जाए,
        मैं जहाँ हूँ वहाँ तूँ नहीं,
        ये भूल गया तूँ,
        मगर जहाँ तूँ रहता है वहाँ भी भारत है,
        ये मैं भूलूँ कैसे,
        मगर मजबूरी है जुल्म और सहूँ कैसे,
        बहुत हुआ उसे समझाना,
        अब खुद को बचाने की बात करते हैं
        चलो अब सबक सिखाने की बात करते हैं।।

        Liked by 1 person

        1. Pyar-Bewafai ka bhaut hi gazab ka combination h. Sir, maine 2line likha h OR aapne 36line mei use explain kr diya. Aapki lines Ansuljhiii nii…..feelings ko express krti h……..You are a symbol of an Incredible Writer. Really amazing lines sir.
          Or sir best-of-best lines ye h
          “फूल हारे बिछा के हमने अबतक,
          चलो अँगारे बिछाने की बात करते हैं,”

          Liked by 2 people

          1. आपकी चार बहुमूल्य पंक्तियाँ हमारी एक कविता बना गई। धन्यवाद पसन्द करने के लिए।

            Liked by 1 person

  2. Masha Allah…Wah kya baath kahi aapne Ashish…it was a class one… the highlight was …oh no yaar…mujse favourite line chun nahi pa raha.. All the four lines are equally beautiful… one without another will look incomplete…

    Liked by 3 people

    1. Arey…….Maine to aiwaiii subah uthaa….mn mei ye thought aaya or publish kr diyaa……sachii Jii !!!!! Ye itnaa achaa h !!!!!!
      Or Anamikaaa ma’am aapka comment ka ye 1st line mst h “Masha Allah”😍😍😍😍😍

      Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.