Posted in Uncategorized

आखिर मुसलमान ही सबसे अधिकभिखारी क्यों होते हैं ? क्या है वास्तविक कारण ?

May 15, 2017

Shanky❤Salty

2011 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार देश में भिखारियों की संख्या 3 लाख 70 हजार है। (According to Census of India) जबकि उसमें मुसलमान भिखारी 92,760 हैं। वैसे इस तरह के लोग सभी धर्मों और जातियों में पाए जाते हैं लेकिन भारत की कुल जनसंख्या में मुसलमान 15 प्रतिशत हैं अर्थात देश में मुस्लिमों की कुल जनसंख्या 18 करोड़ है लेकिन देश के भिखारियों की कुल आबादी में इनकीसंख्या 25 प्रतिशत से अधिक है| भारत का हर चौथा भिखारी मुसलमान है| 

मुस्लिम भिखारियों में पुरुषों की तुलना में महिलाओं की संख्या ज्यादा है जबकि मुसलमान दावा करते हैं कि इन्होने 800 साल भारत पर शासन किया फिर भी भिखारी के भिखारी रह गये | अब यहां प्रश्न यह है कि क्या ये लोग मुसलमान होने के कारण भिखारी हैं या इसका कोई और कारण है | मुझे यह समझ में आता है कि पांच-सात सौ साल पहले जब वे हिंदू थे, तब भी वे प्रायः गरीब थे, मजदूर थे, वे मुश्किल से गुजर-बसर करते थे । तत्कालीन मुगल शासकों के भय या प्रलोभन से इनके मुसलमान बनने पर भी उनकी हालत वही रही | शिक्षा का अभाव व अधिक सन्तान पैदा करने के चक्कर में इनके हालत और भी बदतर हो गये हैं ।

आज भी भारत में 42.72 प्रतिशत से अधिक मुसलमान अनपढ़ हैं और जो मुसलमान संपन्न हैं, सुशिक्षित हैं और शक्तिशाली हैं, उनका वर्ग अलग बन गया है। वे इन विपन्न, अशिक्षित और कमजोर मुसलमानों से रोटी-बेटी का रिश्ता नहीं रखना चाहते । यह वर्ग-भेद अब मुस्लिम देशों में भी फैलता जा रहा है और मुस्लिम नेता राजनीति में अपना करियर बना रहे हैं| आज हिन्दुस्तान के मुसलमान भिखारी हिंदुओं की दया, रहमो-करम पर जिंदा हैं। मुस्लिम समाज के ठेकेदार इनके लिये कुछ नहीं करते हैं |
बल्कि यह ठेकेदार कहते हैं कि भारत में मुस्लिम अल्पसंख्यक हैं. ऐसे में सरकार पर मुस्लिम समाज को नजरंदाज करने के आरोप भी लगाए जाते हैं और उनकी बदहाली के लिए सरकार को जिम्मेदार भी ठहराते हैं. लेकिन मैं बताना चाहता हूँ कि मुस्लिम समाज के उत्थान के लिए 7,730 समाज सेवी संस्थायें कार्य कर रही हैं |(source: google.com) जिनके द्वारा अगर सही दिशा में काम किया जाए तो मुस्लिम भिखारियों की संख्या कुछ अरसे में कम की जा सकती है. देश में 4 लाख भिखारी हैं, सरकार को इनके लिये एक अलग शहर ही बसा देना चाहिये |

भीख मांगने वाले इन लोगों में से बहुत से विकलांग होंगे तो बहुत से ऐसे भी जो हाथ-पैरों से ठीक होंगे. विकलांग लोगों को उनके हिसाब से वोकेशनल ट्रेनिंग दी जा सकती है| जो पढ़े लिखे नहीं हैं उन्हें कोई दूसरा व्यावसायिक काम सिखाया जा सकता है जिससे वो कमाकर खाने के लिए प्रेरित हों| जो पढ़े लिखे हैं उनको उनकी शिक्षा के मुताबिक काम मुहैया करवाया जाए, और जो कुछ नहीं कर सकते उनके लिए ऐसे संस्थाएं भी हैं जो आजीवन उनका ध्यान रख सकती हैं|
देखा जाए तो इस संख्या को इन्हीं वर्गों के आधार पर बांटा जाए और हर वर्ग पर पुनर्वास के लिए सकारात्मक काम किया जाए तो बिल्कुल मुमकिन है कि भारत का कोई भी मुसलमान भीख मांगता नजर नहीं आएगा.!

Author:

I am Ashish Kumar. I am known as Shanky. I was born and brought up in Ramgarh, Jharkhand. I have studied Electronics and Communication Engineering. I have written 6 books. I have come to know so much of my life that life makes me cry as much as death. Have you heard that this world laughs when no one has anything, if someone has everything, this world is longing for what I have, this world. Whatever I am, I belonged to my beloved Mahadev. What should I say about myself? Gradually you will know everything.

6 thoughts on “आखिर मुसलमान ही सबसे अधिकभिखारी क्यों होते हैं ? क्या है वास्तविक कारण ?

  1. due to lack of knowledge………ye log school, college jayege ni sirf apne Madarse mei padhege or Bomb banana or bachee paidaa krna sikhege

    Liked by 1 person

  2. Ye log hr waqt Govt. Pe depend rhte h……….actually mei to ye log minority ni h but hmari Govt. Of Indian sirf vote bank k liye ye logo ko minority bna k rkhi h……….

    Liked by 1 person

    1. My Dear Roopa according to Bharat Sarkar or Ministry of Minority “A population that is less than half of a total” is the definition of Minority. If you can can think this is wrong then please fill a JAN HIT YACHIKA

      Liked by 2 people

  3. Bhai bilkul sahi baat likhe ho… proper education ka kami aur yeh daar ki hindu unhe marenge ke wajah se hi Muslim apne population control nhi krta… sena bana rha hai wo log😆
    Unko yeh smjhna hoga ki humlog itne secular hai jitna Pakistan aur koi bhi Islamic desh nhi hai…

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.